रामकथा को सुनने के साथ-साथ अपने जीवन में अपनाएं : आयुक्त

0
7

10 Oct. Photo-5फरीदाबाद : श्री देव गुरु बृहस्पति सेवक ट्रस्ट द्वारा बल्लभगढ की अग्रवाल धर्मशाला में चल रही भव्य श्री रामकथा में कथा के अंतिम दिन उस समय सभी भक्त भाव विभोर हो गए जब फूलों की बरसात के बीच गुरु जी ने भगवान राम का राज्यभिषेक किया तथा भगवान राम के साथ सीतामाता सिंहासन पर विराजमान हुए।

इससे पूर्व रामकथा का गुणगान करते हुए संत कृष्णा स्वामी महाराज ने कहा कि मेघनाथ व लक्ष्मण दोनों ही इंद्रजीत थे तथा दोनों की पत्नी भी पूर्णरुप से पतिव्रता थीं, दोनो की शक्ति समान थी, फिर भी लक्ष्मण बाण लगने पर मूर्छित हुए और फिर जीवित हो गए ओर मेघनाथ का वध हो गया। यह इस बात का प्रमाण है कि जो सत्य के साथ होता है वह यदि एक क्षण के लिए हार भी जाए तो स्वयं भगवान उसके लिए विलाप कर उसको जीवित करते हैं और जो असत्य तथा गलत होता है उसका अंत निश्चित है।

कथा में उपस्थित हजारों श्रदालुओं को सम्बोधित करते हुए पुलिस संयुक्त आयुक्त संजय सिंह ने कहा कि रामकथा हमेशा से सार्थक व प्रभावी रही है आज हम यहां पर राम कथा सुनने के साथ-साथ यह प्रण लेकर जाएं कि हम इसको अपने जीवन में भी अपनाएंगें। उन्होंने कहा कि रामकथा को यदि मानव अपने जीवन में अपना ले तो पुलिस का काम काफी कम हो जाएगा। उपस्थित भक्तों को सम्बोधित करते हुए बडखल क्षेत्र से विधायक तथा प्रदेश की मुख्य संसदीय सचिव सीमा त्रिखा ने कहा कि इस आयोजन की जितनी तारीफ की जाए उतना कम हैं क्योंकि यह आयोजन चरित्र निर्माण का वही कार्य कर रहा है जिसमें कि वर्तमान की मनोहर लाल सरकार लगी है।

इस मौके युवा कांग्रेसी नेता विजय प्रताप सिंह ने कहा कि इस कथा को सुन कर उनको एक विश्वास हो गया है कि सच्चाई की हमेशा जीत होती है कुछ समय बीच में सच्चे लोगों के लिए परेशाानी के आते हैं पर फिर सच्चाई ही आगे आती है। इस मौके पर मनोज गुप्ता, नानक चंद तायल, नानक चंद बंसल, किशन चंद धोजिया, इंद्रमल किशन चंद से किशन चंद, प्रहलाइ फतेहपुरिया, कैलाश धौजिया, नंदा प्रधान, रुपचंद गुप्ता डाबर वालों, विनोद मित्तल, संदीप मित्तल, संजीव मित्तल, सत्यवीर डागर, राम कुमार गुप्ता, वाई के महेश्वरी, निगम के अधिशासी अभियंता रमेश बंसल प्रमुख रुप से उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here