saudi-arabia-victim_650x400_81444322375चेन्नई : सऊदी अरब में घरेलू सहायिका के तौर पर काम करने वाली 55 साल की कस्तूरी मणिरत्नम के परिवार ने आरोप लगाया है कि कस्तूरी के नियोक्ता ने उनका दायां हाथ उस वक्त काट डाला जब उसने प्रताड़ना एवं यातना से बचने की कोशिश की।

कस्तूरी को सऊदी अरब से वापस लाने में मदद की गुहार लगा रहे परिवार ने केंद्र एवं राज्य सरकार को इस बाबत ज्ञापन भेजे हैं। द्रमुक सांसद कनिमोझी ने भी विदेश मंत्री को पत्र लिखकर इस बाबत उनसे मदद मांगी है।

भारत ने की सख्त सज़ा की मांग
भारत सरकार ने इस घटना की निंदा की है और दोषी को सख्त सज़ा देने की मांग की है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस कहा, ‘यह अस्वीकार्य है। हमने सऊदी अधिकारियों के समक्ष इस मुद्दे को उठाया है। हमारा दूतावास पीड़ित के संपर्क में है।’

मणिरत्नम की बहन का बयान
मणिरत्नम की बहन एस विजयाकुमारी ने बताया, ‘जब उन्होंने प्रताड़ना एवं यातना से बचने की कोशिश की तो महिला नियोक्ता ने उनका दायां हाथ काट दिया। वह गिर गईं और उनकी रीढ़ में गंभीर जख्म आए हैं।’

विजयाकुमारी ने बताया कि मणिरत्नम तीन महीने पहले ही घरेलू सहायिका के तौर पर काम करने की खातिर सऊदी अरब गई थी। उन्होंने कहा, ‘कस्तूरी ने जब अपनी प्रताड़ना के बारे में स्थानीय अधिकारियों को बताया तो उनकी नियोक्ता गुस्सा हो गईं और उन्हें खाना भी नहीं दिया जा रहा था।’ यह पूछे जाने पर कि उन्हें घटना के बारे में कैसे पता चला, इस पर विजयाकुमारी ने कहा कि उन्हें ‘उन एजेंटों के जरिये यह बात पता चली जिन्होंने उन्हें सउदी भेजा था।’

विजयकुमारी ने कहा कि कस्तूरी पर 29 और 30 सितंबर के बीच की रात हमला किया गया। उन्होंने कहा, ‘अब वह रियाद के एक अस्पताल में भर्ती हैं और उनकी हालत गंभीर है। हमारी अपील है कि कृपया उन्हें तत्काल वापस लाया जाए और उनके इलाज में मदद किया जाए।’ कस्तूरी की बहन यहां रह रही हैं, जबकि उनका परिवार तमिलनाडु के वेल्लोर जिले के मूंगिलेरेई गांव में रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here