अब की बार अविरल गंगा धार : डॉ. जगदीश चौधरी

0
121
File Photo

Faridabad/Alive News: गंगा नदी नही अपितु एक ऐसी पवित्र नदी हैं जो मोक्षदायिनी है संस्कृति की द्योतक हैं और भारतीयता की पहचान हैं। वर्तमान परिप्रेक्ष्य में सरकारी तंत्र द्वारा उपेक्षा जन जागरण की कमी, जल शिक्षा का अभाव व बड़े बांध गंगा के अस्तित्व पर खतरा हैं।

अब समय है कि गंगा को अविरल व निर्मल करने हेतु सरकार व जनता मिलकर प्रयास करे, जहां एक ओर सरकार गंगा कानून बनाये, बड़े बांधो को निरस्त करे तथा खनन पर रोक लगाये। वही जनता को चाहिये कि वह भी अपनी भागीदारी सुनिचिश्चत कर गंगा मैया के पुराने गौरव को लाने में मदद करें। ये विचार ग्रीन इंडिया फाउंडेशन ट्रस्ट के अध्यक्ष व वर्ल्ड वाटर कांउसिल के सदस्य डॉ.जगदीश चौधरी ने एक संवाद के दौरान रखे।

जगदीश चौधरी ने बताया कि गंगा के पुर्नजीवन हेतु 28 मई 2019 को बद्रीनाथ स्थित अलकंनदा के उदगम माना गांव में पूरे भारतवर्ष से गंगा सेवक इकट्ठा होगे और अब की बार अविरल गंगाधार की शपथ लेकर दस दिशाओं में कार्य करेगें और सरकार तथा जनता को जागरूक करने का काम करेंगे।

इस अभियान में जलपुरूष डॉ. राजेंद्र सिंह, आंध्र प्रदेश से सत्या, उ.प्रदेश से सुबोध नंदन शर्मा, कृष्णपाल, ज्ञानेंदर रावत, उत्तराखंड से भोपाल सिंह व महिला गंगा सेवक सुशील आदि सैंकडों सामाजिक कार्यकर्ता इकट्ठे होगें और इस कार्यक्रम की शुरूआत उत्तराखंड से करेगें।

Print Friendly, PDF & Email

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here