प्रशासन के दावें फेल, आश्रय स्थल पर नहीं हैं स्वास्थ्य जांच केंद्र

0
42

Rozi Sinha/Alive News
Faridabad: शहर में जिला प्रशासन द्वारा प्रवासी मजदूरों के पलायन को रोकने के लिए बनाए गए आश्रय स्थल आश्रितो से ही खाली है। सवांददाता द्वारा मंगलवार की दोपहर को जब स्थल सराय स्कूल का मौका मुआयना किया तो पता चला कि यहां पर न तो कोई स्वास्थ्य जांच सुविधा केंद्र है और न ही आने वाले लोगों के तापमान जांचने की कोई मशीन है। जिला उपायुक्त यशपाल यादव ने शहर से पलायन को रोकने के लिए फरीदाबाद के कुछ स्कूलों को प्रवासी मजदूरों के लिए निर्धारित कर आश्रय स्थल में तब्दील किया है, जिसमे सराय का राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, सेहतपुर व तिलपत का सरकारी स्कूल शामिल है।

आश्रय स्थलों में नहीं है कोई स्वास्थ्य जांच केंद्र
पलायन करने वाले लोगों के लिए सरकार द्वारा स्कूलों में विशेष प्रबंध किए गए है। ये स्कूल खाने- पीने की सुविधा के साथ-साथ बिजली, आरओ का पानी, सोने की व्यवस्था आदि से परिपूर्ण है, लेकिन इन आश्रय स्थलो पर आने वाले लोगों के लिए स्वास्थ्य जांच की कोई सुविधा नहीं है। सराय स्कूल में प्रशासन की ओर से न तो किसी डॉक्टर की नियुक्ति हुई और न ही लोगों के तापमान जांचने की मशीन की सुविधा है। ऐसे में स्वास्थ्य सुविधाओं का न होना आने वाले आश्रितों के साथ वहां के निरीक्षणकर्ताओं के लिए भी खतरे से खाली नहीं है।

स्कूल में उपस्थित निरीक्षणकर्ता अध्यापक दान सिंह चंदीला ने बताया कि यहां नही के बराबर मजदूर और आश्रितों रहने आ रहे है, सोमवार को दो मजदूर रहने आए थे। उन्हें बॉर्डर बंद होने से पहले एसीपी द्वारा बस में बैठाकर उनके गांव भेज दिया गया। उन्होंने बताया कि स्कूल प्रशासन ने पलायनकर्ताओं के लिए सभी प्रकार के इंतेजामात कर रखे है। हर पांच घंटे में निरीक्षणकर्ता अध्यापक की शिफ्ट बदलती है।

Print Friendly, PDF & Email