Faridabad/Alive News : भारत को आजाद कराने के लिए सुभाष चन्द्र बोस ने अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया। उनकी महानता और उनके शौर्य की गाथा की कोर्ई तुलना नहीं की जा सकती। जिस प्रकार से वो युवाओं में जोश भर देते थे, वो उनके व्यक्तित्व की विशेषता थी। उनके द्वारा कही गई चन्द लाइनें- तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।

आज भी हमारे तन-मन को झकझोर देते हैं। उक्त वक्तव्य अखिल भारतीय ब्राह्मण सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पं. सुरेन्द्र शर्मा बबली ने आज वीर महान सपूत सुभाष चन्द्र बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते हुए कहे। सैक्टर-12 स्थित कार्यालय पर उनकी पुण्यतिथि पर आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए पं. सुरेन्द्र शर्मा बबली भावुक हो उठे। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आजाद हिन्द फौज की स्थापना करना वो भी अकेले अपने दम पर, उनके साहस और पराक्रम की पराकाष्ठा है।

उन्होंने कहा कि जिस तेजी से वो आगे बढ़ रहे और युवा उनसे जुड़ रहे थे, अंग्रेज भयभीत हो गए थे। बबली ने कहा कि उनको मौत से खेलने का शौक था और कभी वो घबराए नहीं। आज उनकी पुण्यतिथि पर हम उनको सादर नमन करते हैं और युवाओं को यह संदेश देते हैं कि उनके जीवन के आदर्शों से प्रेरणा लें। इस अवसर पर पं. एल आर शर्मा, तेजपाल, ललित, हरीश पाराशर एडवोकेट, बंटी, राजीव, कैलाश, सुशासन, कृष्ण्कांत एवं पं. कृष्ण ने सुभाष चन्द्र बोस को भावभीनी श्रद्धांजलि दी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here