दक्षिण भारतीय सफल फिल्मों का सफल रीमेक बनाने के लिए मशहूर निर्देशक एआर मुरुगादौस एक बार फिर से अपनी शैली की एक्शन फिल्म लेकर आए हैं. ‘अकीरा’ 2011 में आई तमिल फिल्म ‘मौना गुरु’ में मुंबइया तड़का लगाकर परोसी जाने वाली उनकी अगली फिल्म है. इस तड़के के अलावा दोनों फिल्मों में एक अंतर यह भी है कि मूल फिल्म की कहानी जहां नायक के इर्द-गिर्द घूमती है वहीं अकीरा एक नायिका प्रधान फिल्म है.

ट्रेलर जो कहानी कहता है वह कुछ ऐसी है कि कॉलेज स्टूडेंट अकीरा (सोनाक्षी सिन्हा) अपनी पढ़ाई करने के लिए मुंबई आती है और पहले ग़लतफ़हमी और फिर साजिशों में उलझते हुए उसकी भिड़ंत भ्रष्ट पुलिस ऑफिसर अनुराग कश्यप से हो जाती है. अकीरा अन्याय को न सहन करने वालों में है और उसकी इस जिद के चलते उसे अपने परिवार तक की उपेक्षा का शिकार होना पड़ता है.

कश्यप के जानदार अभिनय, संवाद और ट्रेलर में उनकी लगातार उपस्थिति से यह आशंका पैदा हो जाती है कि कहीं फिल्म का विलेन फिल्म में नायिका पर भारी तो नहीं पड़ने जा रहा है.

फिल्म के शीर्षक में शामिल लाइन ‘नो वन विल बी फॉरगिवन (किसी को माफ़ नहीं किया जाएगा)’ यह बताती है कि फिल्म एक रिवेंज थ्रिलर है. ट्रेलर में जहां ज्यादातर संवाद अनुराग कश्यप बोलते दिखाई देते हैं वहीं सोनाक्षी गिनती की एकाध लाइनें बोलने के बाद ताबड़तोड़ एक्शन करती दिखाई देती हैं. कश्यप के जानदार अभिनय, संवाद और ट्रेलर में उनकी लगातार उपस्थिति से यह आशंका पैदा हो जाती है कि कहीं फिल्म का विलेन फिल्म में नायिका पर भारी तो नहीं पड़ने जा रहा है.

वैसे ट्रेलर में जितना दिखता है सोनाक्षी सिन्हा का किया एक्शन बेहतरीन दिखता है, भले ही अभिनय के मामले में वे अभी भी कहीं-कहीं चूकती दिखाई देती हों. सोनाक्षी ने इस फिल्म के लिए बकायदा मिक्स्ड मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग ली है. शायद यही वजह है कि इस ट्रेलर में वे अपनी पिछली फिल्मों की तुलना में ज्यादा फिट नजर आ रही हैं. अब तक अपने बॉडी-फैट के चलते लोगों के निशाने पर रही सोनाक्षी के लिए यह एक अच्छी खबर है.

गहरे शेड्स की फिल्में बनाने वाले निर्माता-निर्देशक अनुराग कश्यप इस फिल्म में गहराई भरा अभिनय करते दिखाई पड़ सकते हैं. फिल्म में वे नकारात्मक भूमिका में हैं और ट्रेलर में उनकी झलक से ही पता चल जाता है कि इस क्षेत्र में भी उनकी क्षमताएं सीमित नहीं हैं. यहां पर इस बात की पूरी-पूरी उम्मीद की जा सकती है कि सिनेमाघर में दर्शक अनुराग कश्यप की बजाय फिल्म के विलेन को देखेंगे. इसलिए भी कि अब तक लोगों ने उन्हें पर्दे पर ज्यादा देखा नहीं है. आजकल कश्यप लेखन, निर्देशन और अभिनय सब कुछ एक साथ कर रहे हैं. उन्हें इतना और ऐसा काम करते देखकर किसी को भी आश्चर्य हो सकता है लेकिन शायद वे ऐसा कर पाने में इसलिए भी सक्षम हैं क्योंकि वे हमेशा ही अपने मन की करते हैं.

ट्रेलर से पता चलता है कि फिल्म में एक ईमानदार पुलिस अधिकारी भी है. यह भूमिका कोंकणा सेन शर्मा निभा रही हैं. कोंकणा हमेशा विश्वसनीय लगती हैं इस ट्रेलर में भी लग रही हैं. अगर अकीरा में उनका रोल सही मात्रा में हुआ तो यह फिल्म उनकी वजह से भी देखने लायक हो सकती है.

सोशल मीडिया पर ‘जूनियर शॉटगन’ के नाम से मशहूर सोनाक्षी सिन्हा ‘अकीरा’ को लेकर इतनी उत्साहित हैं कि उन्होंने यहां तक कह दिया कि वे पैदा ही इसलिए हुई हैं कि यह फिल्म कर सकें

फिल्म में संगीतकार जोड़ी विशाल-शेखर का संगीत है. ट्रेलर में किसी भी गाने की झलक नहीं है इसलिए फिल्म के गीत-संगीत का अंदाजा इससे नहीं लगता. यहां तक कि अगर संगीतकार का नाम न दिया जाता तो यह तक पता नहीं चलता कि फिल्म में गाने हैं भी या नहीं.

2 सितंबर को रिलीज होने वाली अकीरा की इस झलक को देखकर कहा जा सकता है कि यह मुरूगादौस मार्का मसाला फिल्म है. फिल्म में सोनाक्षी हमारी हीरोइनों के नजरिये से देखें (क्वांटिको वाली प्रियंका को छोड़कर) तो बेहतरीन एक्शन करती हुई नजर आएंगी. लेकिन सिर्फ यही बात फिल्म को देखने लायक बनाने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकती. पर फिल्म के देखने और न देखने लायक के बीच के इस गैप को कश्यप और कोंकणा की फिल्म में उपस्थिति भर सकती है, ऐसा सोचना ऐसी दूर की कौड़ी भी नहीं है.

एक्स्ट्रा शॉट्स : सोशल मीडिया पर ‘जूनियर शॉटगन’ के नाम से मशहूर सोनाक्षी सिन्हा ‘अकीरा’ को लेकर इतनी उत्साहित हैं कि उन्होंने यहां तक कह दिया कि वे पैदा ही इसलिए हुई हैं कि यह फिल्म कर सकें. अकीरा शब्द का अर्थ होता है खुबसूरत और सक्षम. सोनाक्षी सिन्हा बेशक खूबसूरत हैं लेकिन अभिनय के मामले में उन्हें अपनी क्षमताएं सिद्ध करना अभी भी बाकी है. ‘अकीरा’ अभिनय के लिए भले न करे पर एक्शन के लिए उन्हें अकीरा साबित कर सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here