Palwal/Alive News : आर्य समाज पलवल शहर में साप्ताहिक सत्संग के दौरान उपस्थित जन समुह को रक्तदान और नेत्रदान के लिए जागरुक किया। जिसमें प्रात: सर्वप्रथम यज्ञ किया गया। यज्ञ के ब्रह्म ओम प्रकाश शास्त्री तथा मुख्य यजमान विकास मित्तल और अल्पना मित्तल थे । इस अवसर  मूल चन्द मुखी, दौलत राम गुप्ता, ओम प्रकाश शास्त्री आदि ने प्रभु भक्ति के गीत और उपदेश दिए।
कार्यक्रम में पलवल डोनर्स क्लब ज्योतिपुंज के मुख्य संयोजक आर्यवीर लायन विकास मित्तल ने बताया कि अंगदान और रक्तदान महादान हैं।एक स्वस्थ्य व्यक्ति वर्ष में तीन बार रक्तदान कर सकता है। एक व्यक्ति के रक्तदान से हम तीन से चार जिंदगियों की रक्षा कर सकते है। रक्तदान कर हम कई बीमारियों से अपनी रक्षा कर सकते है। चूंकि रक्त का निर्माण अलग से न तो किया जा सकता है और न ही मशीन से बनाया जा सकता है।
इसीलिए 18 वर्ष से लेकर 65 वर्ष के बीच के प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति को हर 90 दिन के बाद रक्तदान करना चाहिए।  उन्होंने यह भी कहा कि जीते जी रक्तदान और मरणोपरान्त कार्नियादान करके हम मानवता की सच्ची सेवा कर सकते है। कार्यक्रम के अन्त में आर्य समाज पलवल शहर के प्रधान चन्द्रशेखर मंगला नें यजमान दम्पत्ति को जीवन उपयोगी पुस्तकें प्रदान करके सम्मानित किया ।
इस अवसर पर कृष्ण कुमार भुटानी, जगबीर सिंह गिरधर, हर्षदेव आर्य, खजान सिंह आर्य, मुलचन्द मुखी, दौलत राम गुप्ता, यशवीर  आर्य, नरेश छाबडा, सुभाष छाबडा, राजेश मंगला ,यशपाल मंगला, यशपाल गोयल,राम प्रकाश आर्य,वीना डैम्बला, मुकेश आर्य, राजेश आर्या,राम लाल आहुजा, बिसन सिंह, अशोक गर्ग, कमलेश गर्ग,  दिनेश मंगला,कैलाश आर्य  आदि मुख्य रूप से उपस्थित थेद्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here