Faridabad/Alive News : उड़ीया कॉलोनी स्थित सेंट थौमस स्कूल में खसरा और रूबेला रोग से बचाव के प्रति अध्यापकों और छात्रों को जागरूक किया गया। इसके लिए अभिभावकों की एक विशेष सभा बुलाई गई, जिसमें खसरा और रूबैला के लक्षण बताते हुए टीकाकरण के लिए प्रेरित किया।

इस मौके पर स्कूल के चेयरमैन विनय लाल ने बताया कि खसरे के लक्षण कई बार इतने सामान्य होते हैं, कि यह बीमारी पकड़ में ही नहीं आती। खासतौर पर बच्चों में इस बीमारी के लक्षणों की पहचान कर पाना कई बार बहुत ही मुश्किल हो जाता है।

इस बीमारी के लक्षण फौरन पकड़ में भी नहीं आते। खसरा एक जानलेवा रोग है, जो वायरस द्वारा फैलता है। जिससे बच्चों में खसरा के कारण विकलांगता आ जाती है।

इसलिए हर 9 महीने से 15 वर्ष तक के बच्चों को खसरा और रूबैला टीकाकरण अनिवार्य है। ताकि बच्चों में तेजी से फैल रहे इन घातक बिमारीयों की रोकथाम की जा सके। कार्येक्रम को सफल बनाने के लिए स्कूल चैयरमेन ने स्कूल स्टाफ और अभिभावकों का सहयोग देने पर आभार व्यक्त किया|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here