बाल श्रम निषेध दिवस पर हुआ जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन

0
49

Faridabad/Alive News: द राइजिंग तमसो माँ ज्योतिर्गमय के सहयोग से सराय ख्वाजा की राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय की जूनियर रेड क्रॉस और सैंट जॉन एम्बुलेंस ब्रिगेड ने प्राचार्या नीलम कौशिक की अध्यक्षता में और द राइजिंग तमसो माँ ज्योतिर्गमय के फाउंडर अध्यक्ष तरुण शर्मा के मुख्य आतिथ्य में बाल श्रम निषेध दिवस पर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया। जूनियर रेड क्रॉस और सैंट जॉन एम्बुलेंस ब्रिगेड व् अंग्रेजी लेक्चरर रविन्द्र कुमार मनचंदा ने कार्यक्रम की शुरुआत करते हुआ कहा कि बचपन व्यक्ति की जिंदगी का सबसे हसीन पल होता है बचपन में न किसी बात की चिंता और न ही कोई जिम्मेदारी, बस हर समय अपनी मस्तियों में खोए रहना, खेलना-कूदना और पढ़ना। लेकिन सभी का बचपन ऐसा हो यह जरूरी नहीं, बाल मजदूरी की समस्या से आप अच्छी तरह वाकिफ होंगे।

कोई भी ऐसा बच्चा जिसकी उम्र 14 वर्ष से कम हो और वह जीविका के लिए काम करे बाल श्रम के अंतर्गत आता है और बाल श्रमिक कहलाता है। गरीबी, लाचारी और माता-पिता की प्रताड़ना के चलते ये बच्चे बाल मजदूरी के इस दलदल में धंसते चले जाते हैं। आज दुनिया भर में 21 करोड़ ऐसे बच्चे हैं जिनकी उम्र 14 वर्ष से कम है। और इन बच्चों का समय स्कूल में कॉपी-किताबों और दोस्तों के बीच नहीं बल्कि होटलों, ढाबो , घरों, फैक्ट्रियों और उद्योगों में बर्तनों, झाड़ू-पोंछे और औजारों के बीच बीतता है। भारत में यह स्थिति बहुत ही भयावह हो चली है। पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा बाल मजदूर भारत में ही हैं।

1991 की जनगणना के हिसाब से बाल मजदूरों का आंकड़ा एक करोड़ तेरह लाख था। और वर्ष 2001 में यह आंकड़ा बढ़कर एक करोड़ सत्ताईस लाख से भी अधिक पहुंच गया है द राइजिंग के फाउंडर सदस्य रविन्द्र कुमार मनचंदा ने आगे कहा कि अशिक्षा, बढ़ती आबादी और बेरोजगारी बाल मजदूरी के सब से बड़े कारक है आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग में यह समस्या भयंकर रूप ले चुकी है।

द राइजिंग तमसो माँ ज्योतिर्गमय के फाउंडर अध्यक्ष तरुण शर्मा और प्राचार्या नीलम कौशिक ने जूनियर रेड क्रॉस और सैंट जॉन एम्बुलेंस ब्रिगेड के सदस्यों की जागरूकता रैली को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया, रैली का नेतृत्व रविन्द्र कुमार मनचंदा और तरुण शर्मा ने किया, बच्चे सराय की मार्किट, जी टी रोड, टोल प्लाजा एयर सराय की कॉलोनियों में ” स्टॉप चाइल्ड लेबर ”, ” बाल मजदूरी समाप्त करो ”, ” बच्चों से मजदूरी करवाओगे तो जेल जाओगे ” जैसे नारे लगा लगा कर बाल मजदूरी ख़तम करने का आह्वान कर रहे थे। इस से पूर्व बच्चों ने बहुत हु अच्छे स्लोगन व् पोस्टर बना कर बाल श्रम समाप्त करने का सन्देश दिया। द राइजिंग तमसो माँ ज्योतिर्गमय के तरफ से रैली में भागीदारिता करने वाले सदस्यों को जल पान भी करवाया। प्राचार्या नीलम कौशिक ने द राइजिंग तमसो माँ ज्योतिर्गमय व् जूनियर रेड क्रॉस का बाल श्रम निषेध दिवस पर जागरूकता के लिए सभी की सराहना की।

Print Friendly, PDF & Email