Palwal/Alive News : सडक़ सुरक्षा तथा स्कूल सुरक्षित वाहन नीति के तहत स्कूल प्रबंधक नियमों की पालना करना सुनिश्चित करें। लघु सचिवालय में सडक़ सुरक्षा तथा स्कूल सुरक्षित वाहन नीति व ब्लैक स्पॉट बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त मनीराम शर्मा ने शिक्षण संस्थाओं के प्रतिनिधियों से कहा कि शिक्षण संस्थानों के स्कूली वाहनों में फस्ट्र एड बॉक्स, जी.पी.एस. सिस्टम तथा महिला अटैण्डेंट के ना होने की स्थिति में संबंधित शिक्षण संस्थान के विरूध नियमानुसार कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

उपायुक्त ने जिला शिक्षा अधिकारी को कड़े निर्देश दिए कि जिन स्कूली वाहनों की वैधता समाप्त हो गई अथवा जिन बसों में नियमानुसार आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध नहीं है, उन्हें बंद करवाना सुनिश्चित करें। बैठक में सडक़ सुरक्षा के लिए किए जा रहे कार्यों, प्रबंधों तथा स्कूल वाहन नीति के कार्यान्वयन के बारे में समीक्षा की गई। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि दुर्घटना संभावित क्षेत्रों की पहचान कर वहां विशेष बचाव प्रबंध किए जाएं। उपायुक्त ने निर्देश दिए कि स्कूल प्रबंधक विद्यार्थियों को ट्रैफिक नियमों के प्रति नियमित रूप से जागरूक करते रहें।

उपायुक्त ने कहा कि वे यह भी सुनिश्चित करें की स्कूली बसों में महिला अटैण्डैंट, फस्ट ऐड बॉक्स, सी.सी.टी.वी. कैमरा तथा परिचालक द्वारा रैडक्रास सोसायटी से फस्ट ऐड का प्रशिक्षण किया होना चाहिए। लघु सचिवालय में हुई सडक़ सुरक्षा तथा सुरक्षित वाहन नीति की बैठक में क्षेत्रीय यातायात प्राधिकरण की सचिव एवं अतिरिक्त उपायुक्त अंजू चौधरी तथा पलवल के उपमण्डल अधिकारी एस.के. चहल ने सडक़ सुरक्षा के लिए किए जा रहे कार्यों, प्रबन्धों तथा स्कूल सुरक्षित वाहन नीति के कार्यान्वयन बारे आवश्यक जानकारी व विवरण प्रस्तुत किया।बैठक में पलवल के उपमण्डल अधिकारी एस.के. चहल, होडल की उपमण्डल अधिकारी कुमारी प्रीति, पुलिस उपाधीक्षक सुरेश कुमार, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी दीपक यादव, लोक निर्माण विभाग के कार्यकारी अभियंता अरूण कुमार सिंगला, डॉ. जयभगवान जाटान, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी अनिल शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी रमेश शर्मा के अतिरिक्त नगर परिषद व अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी व शिक्षण संस्थाओं के प्रतिनिधि मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here