भाजपा का श्रद्धांजलि में भी चुनाव प्रचार, विपक्ष भडक़ा

0
280
Sponsored Advertisement

Faridabad/Alive News : 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले में 45 सीआरपीएफ (अध्र्यसैनिक बल) जवानों की शहादत से देश गुस्से में है। देश की जनता अपना रोष सडक़ों पर रैली और कैंडल मार्च निकालकर प्रकट कर रही है, और सरकार से इस आत्मघाती हमले का बदला लेने के लिए दबाव भी बना रही है। दूसरी ओर भाजपा सैनिकों की इस शहादत को भी चुनाव के लिए भूना रही है। पाठको को बता दें, कि अभी तक शहादत को प्राप्त जवानों के परिजनों ने कई स्थानों पर अपने लाडलों के अंतिम दर्शन तक नही किए हैं।

इतना ही नहीं वीर जवानों के शव उनके जन्म स्थल तक भी नही पहुचें। इससे पहले ही जिला भाजपा के मंत्री, विधायक और नेताओं ने रविवार को बी.के. चौक पर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के नाम पर चुनावी प्रचार करने में पीछे नही रहे। इसका सबूत धरने स्थल पर भाजपा नेताओं के पीछे लगे बैनर से अनुमान लगाया जा सकती है कि वोट बैंक के सामने बीजेपी के लिए शहीदों की शहादत कोई मायने नहीं रखती।

क्योंकि जिन लोगों ने शहीदों को श्रद्धांजलि देने थी, उन्होंने बिना पार्टी के सिम्बल और बैनर के श्रद्धांजलि देशभर में दी। लेकिन भाजपा के कर्मठ और ईमानदार नेताओं ने कमल के फूल का बैनर लगाकर मीडिया के माध्यम से फोटो खिंचवा कर जमकर प्रचार किया। खबर में लगी फोटो से जनता खुद अनुमान लगा सकती है कि भाजपा नेताओं ने फोटो के पोज देने और अपना प्रचार कराने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

श्रद्धांजलि में भाजपा की राजनीति पर विपक्ष का कंटाक्ष

निम्न स्तर की राजनीति करने वाली भाजपा को मैं, राजनीति पार्टी नही मानता जो शहीदों पर राजनीति कर शहीदों की शहादत को चुनाव में भूनाने में लगी हुई है। अगर, भाजपा हाईकमान सही मायने में शहीदों को श्रद्धांजलि देना चाहती तो फरीदाबाद में जो भाजपा नेता श्रद्धांजलि के नाम पर फोटो सेंशन और भाजपा का कमल छपा हुआ बैनर लगाकर प्रचार कर रहे थे, उन्हें पार्टी से बाहर निकाले।
-विजय प्रताप, वरिष्ठ कांग्रेस नेता।

भाजपा नेताओं का धरना ढकोसला है और कुछ नहीं। इस तरह केंद्र और राज्य में अपनी सरकार होने के बावजूद विरोध के लिए धरना प्रदर्शन करने का कोई औचित्य नही होता। बीजेपी मौका प्रस्त पार्टी है, जिसे आने वाले लोकसभा चुनावों में जनता जरूर मजा चखाएगी।
-सुमित गौड़, प्रदेश सचिव कांग्रेस

 

सैनिक शहादत देते रहें, लेकिन भाजपा को कोई फर्क नहीं पड़ता। भाजपा के नेता श्रद्धांजलि के नाम पर धरना दे रहे हैं, बीजेपी सरकार के लिए शर्म की बात है। केंद्र और राज्य में उनकी सरकार है, धरना देकर किस पर कोशिश कर रहें हैं। जनता की आंख में धूल झौकं कर सत्ता हथियाना की कोशिश है। शहीदों की शहादत पर कोई भी पार्टी राजनीति न करें।
-उमेश भाटी, हरियाणा मीडिया प्रभारी, इडिंयन नेशनल लोकदल

 

भाजपा जिलाध्यक्ष ने क्या दिया स्पष्टीकरण
बी.के चौक पर पार्टी ने धरना नहीं बल्कि श्रद्धांजलि सभा रखी थी और 14 फरवरी से पार्टी के सभी कार्यक्रम मंत्री, विधायक और नेताओं ने तीन दिन तक कैंसिल किए हुए थे। जो विपक्ष आरोप लगा रहा है वह निराधार है क्योंकि जनता ने उन्हें सत्ता से दूर किया हुआ है।
-गोपाल शर्मा, जिलाध्यक्ष भाजपा

Print Friendly, PDF & Email