भूमिकाओं के निर्वहन की शैली सांगठनिक दायित्वों का महत्व प्रभावित करती हैं : आचार्य देवेन्द्र देव

0
6

Faridabad/Alive News : कोई भी संस्था विराट परिवार का ही रूप होती है जिसमें संगठन का आधार पारस्परिक प्रेम और विश्वास ही होता है इससे जुड़े प्रत्येक दायित्ववान कार्यकर्ता को अपने कर्तव्यों के निर्वहन के चिंतापूर्ण प्रयास उसी प्रकार करने चाहिए जैसे एक परिवार के लोग करते हैं | इसमें कोई छोटा बड़ा नहीं होता सब का महत्व उनकी भूमिकाओं के निर्वहन के आधार पर घटता बढ़ता रहता है उक्त विचार दिव्यार्थ फाउंडेशन की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में संस्था के संरक्षक के रूप में संस्कार भारती के अखिल भारतीय साहित्य सह संयोजक और राष्ट्रीय कवि व साहित्यकार आचार्य देवेंद्र देव ने मुख्य वक्ता के रूप में व्यक्त की है|

वाग्देवी मां सरस्वती और भारत माता के चित्रों के समक्ष दीप प्रज्वलित करके वाणी वंदना और फाउंडेशन के ध्येयगीत के सामूहिक वाचन से प्रारंभ हुई बैठक में सर्वप्रथम पुलवामा और उसके पश्चात विभिन्न घटनाओं में शहीदों को मौन श्रद्धांजलि देने के पश्चात संस्था के महासचिव उदितेन्दु वर्मा ‘निश्चल’ ने मंचस्थ अतिथियों और असम से पधारे सुदीप्तो अधिकारी , मध्य प्रदेश से पधारे श्यामसुंदर सोनी, राजस्थान से पधारे सुमित स्वर्णकार एवं अनुज राठी उत्तराखंड से पधारी प्रियंका सिंह , शेखर सिंह, हरियाणा से पधारे अंकित,वेरोनिका,दिल्ली से पधारे अमर सोनी और उत्तर प्रदेश से पधारे दीपेश और अन्य प्रतिनिधि एवं अतिथि वक्ताओं के रुप में पधारे राष्ट्रीय सिख संगत के एन सी आर के संगठन महामंत्री श्री पन्नालाल जी , राष्ट्रीय सिख संगत के मीडिया प्रभारी श्री अतुल खन्ना जी राष्ट्रीय सिख संगत की साउथ दिल्ली की संगठन महामंत्री श्रीमती रेखा भार्गव जी के साथ प्रथम बुक्स के संपादक राजेश खर जी का परिचय कराते हुए उनकी प्रतिभा का सम्मान किया गया|

वक्ताओं ने संगठन के विस्तार एवं कार्यशैली से जुड़े हुए निर्धारित विषयों पर विस्तार के साथ अपने अपने विचार रखे | प्रथम उद्घाटन सत्र के अध्यक्ष अंतरराष्ट्रीय चित्रकार श्री किशन सोनी जी ने अपने उद्बोधन में गठित कार्यकारिणी के प्रयासों की सराहना करते हुए सफलता की शुभकामनाएं दी समापन सत्र में विभिन्न विषयों पर सेमिनार का आयोजन किया गया जिसमें आगमी योजनाओं पर प्रकाश डाला गया जैसे कौशल विकास पर असम से पधारे श्री सुदिप्तो अधिकारी ने , शिक्षा के क्षेत्र में राजस्थान से पधारे दीपेश जी ने, महिला सशक्तिकरण पर वेरोनिका वर्मा ने , पर्यावरण पर उत्तराखंड से प्रियंका सिंह , स्वास्थ्य पर राजस्थान से अनुज राठी जी ने विस्तार से चर्चा की और अपने विचार रखे|

दोनों सत्रों का संचालन संगठन के महासचिव उदितेन्दु वर्मा ने किया | बैठक में सर्वसम्मति से बरेली से डॉक्टर रंजन विशद को दिव्यार्थ फाउंडेशन का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष , मथुरा से कवयित्री पूनम वर्मा को विशेष आमंत्रित सदस्य , नोएडा से किनकिनी ध्वनि इंस्टिट्यूट ऑफ़ डांस की निदेशक श्रीमती स्वागतासेन पिल्लई एवं दिल्ली से श्री पन्नालाल जी एवं प्रथम बुक्स के संपादक श्री राजेश खर जी को सलाहकार समिति का सदस्य नियुक्त किया गया और इसी श्रंखला में नॉएडा से श्री शंभू ठाकुर जी को कानूनी सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया | बैठक में श्री दलबीर , श्री बलराम विशिख एवं श्री अम्रिकेश जी आदि गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे|

अंत में वंदे मातरम गीत के साथ एसआरएस टावर के सभागार में आयोजित फाउंडेशन की बैठक का समारोप किया गया|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here