Faridabad/ Alive News: नगर निगम वार्ड 8 के लोग अलग अलग समस्याओ को लेकर पिछले कई वर्षो से जूझ रहे है वार्ड नंबर 8 के सभी लोग प्रवासी है जो अपनी मुलभुत समस्याओ को लेकर चुनाव के समय जागरूक दिखाई दे रहे है। अलाइव न्यूज़ संवादाता ने वार्ड की समस्याओ को लेकर लोगो से जानकारी ली तो पाया कि डबुआ कॉलोनी के लोग  पीने के पानी से लेकर पानी निकासी तक की समस्या का दंश लगातार 15 साल से झेल रहे है। हर बार चुनाव में जनप्रतिनिधि उन्हें वायदों की खुराक देकर वोट हथिया लेते है लेकिन इस बार क्षेत्र के लोग अपने विवेक का इस्तेमाल कर समस्याओ का निदान करने वाले शिक्षित पार्षद को चुनना चाहते

36 

पर क्या कहते है वार्ड 8 के लोग 

विपिन मिश्रा का कहना है कि डबुआ कॉलोनी को डबुआ मंडी से होकर जाने वाली मुख्य सड़क तालाब में बदल चुकी है सड़क को लेकर क्षेत्र के लोगो ने निवर्तमान पार्षद, विधायक से लेकर नगर निगम कमिश्नर तक को अपनी जल भराव की समस्या से अवगत कराया जा चूका है इतना ही नही मार्किट कमेटी के चैयरमैन , एसडीएम और जिला उपायुक्त को लिखित में क्षेत्र की समस्या दी जा चुकी है लेकिन क्षेत्र की समस्या ज्यो  की त्यों बनी हुई है।  उन्होंने कहा कि इस बार चुनाव में वोट उसे दिया जायेगा जो हमारे क्षेत्र से होगा।
भाजपा के जिला सचिव भगवान् सिंह का कहना है कि क्षेत्र की समस्या को लेकर लगातार 10 वर्षो से लड़ाई लड़ रहा हूं लेकिन किसी भी जनप्रतिनिधि ने वार्ड 8  में पड़ने वाली कॉलनी डबुआ की समस्याओ पर ध्यान नही दिया जिसको लेकर भाजपा सरकार में केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर और यशवीर डागर की तत्परता के कारण क्षेत्र के विकास कार्यो के लिए 20 करोड़ रूपए मुख्यमंत्री ने अपनी प्रगति रैली में घोषणा की है उन्होंने  कहा कि एनआई टी के विकास के लिए जो मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दिया है शायद ही किसी मुख्यमंत्री ने आज तक  नही दिया होगा। भगवान् सिंह ने कहा कि क्षेत्रीय विधायक जनता की समस्याओं पर ध्यान कम और परिवारवाद में विश्वास ज्यादा करते है। जिसकी देन डबुआ सब्ज़ी मंडी रोड और भोजपुरी समाज वाली रोड है  इन दोनों सड़को पर एक एक फुट पानी हमेशा भरा रहता है और लोगो को गंदे पानी से होकर गुजरना पड़  रहा है  उन्होंने  कहा कि विद्यायक से जो काम नही होते उन्हें सरकार पर थोप देते है लेकिन सच्चाई तो यह है की उनका ध्यान जनता की सेवा में कम और परिवार की सेवा में ज्यादा है।
 37
डबुआ कॉलोनी निवासी धर्मेन्द्र सिंह का कहना है कि डबुआ कॉलोनी की जनता कूड़े के ढेर पर बैठी है अब तो जनप्रतिनिधि से लेकर अधिकारी ने भीअपन हाथ खीच  लिया है डबुआ की 60 फुट रोड गंदे पानी का तालाब बन चुकी है जिस से करीब 2 लाख लोग हर रोज़ सफर करते है लेकिन विधायक और अधिकारियो के कानो पर जु तक नही रेंग रही है। उन्होंने कहा कि समस्याओ को लेकर विधायक से मिल चुके है। उन्हें विधायक से 2 साल बीतने के बाद भी आश्वासन के अलावा कुछ नही मिला। उन्होंने कहा कि एनआईटी की जनता का दुर्भाग्य है जो की विपक्षी दल का विधायक चुन बैठी। आज वार्ड 8 के लोग पीने के पानी, सीवर जाम और सफाई को लेकर परेशांन है और उनकी समस्या सुनने वाला कोई नही है। उन्होंने कहा कि अब वक्त एक बार फिर जनप्रतिनिधियों को सबक सीखने के लिए जनता के हाथ में आया है। उन्होंने कहा कि वार्ड के लिए शिक्षित और ईमानदार जनप्रतिनिधि चाहिए।
डबुआ कॉलोनी निवासी संदीप शर्मा ने कहा कि वार्ड की समस्याओं का निदान पिछले पार्षद को करना चाहिए था लेकिन पार्षद को जनता ने सिर्फ होर्डिंग और पिछले चुनाव में देखा था इस बार काम करने वाले  उम्मीदवार को ही वोट दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि जनता अब समझदार हो चुकी हैं सोशल मिडिया का जमाना है हेर काम करने वाले व्यक्ति के बारे में अनुमान लगाया जा सकता है अब  नेता उन्हें बेवकूफ नही बना सकते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here