नाक के माध्यम से निकाला ब्रेन का ट्यूमर

0
43

Faridabad/Alive News : स्मार्ट सिटी के डॉक्टर ने बिना ऑपरेशन किए नाक से ब्रेन ट्यूमर को निकाल कर एकबार फिर कमाल किया है। डॉक्टर ने बताया कि ट्यूमर के कारण मरीज का हाथ, पैर, चेहरा सामान्य साइज से बड़ा होते जा रहा था। ट्यूमर निकालने के तीन दिनों के बाद उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। अब मरीज की स्थिति सामान्य है।

द्वारका, दिल्ली के 38 वर्षीय भास्कर वासने शरीर के कई अंगों में अप्राकृतिक विकार से परेशान थे। इलाज के लिए वह नीलम बाटा रोड़ स्थित फोटिस अस्पताल के न्यूरो सर्जन डॉ. अशीष गुप्ता के पास गए।

जांच के दौरान पाया गया कि उनकी आंखों की नसों के पास तीन सेंटीमीटर का ट्यूमर है। इससे उन्हें खासी समस्या हो रही थी। वह इससे पहले कई डॉक्टर से पहले इलाज करा चुके थे, लेकिन बीमारी का पता ही नहीं चल रहा था। उनका उपचार कर रहे डॉ. अशीष गुप्ता ने बताया कि प्राथमिक उपचार के बाद उनका ब्रेन का एमआरआई कराया गया।

इसमें एक ट्यूमर दिखा, जो नसों को दबा रहा था। इसके कारण समस्या हो रही थी। जांच के बाद परिजनों से बात कर उनकी सर्जरी का निर्णय लिया गया। उन्होंने बताया कि नाक द्वारा दूरबीन डालकर उनके ट्यूमर को निकाला गया। अभी तक स्कल (ब्रेन) को खोलकर माईक्रोस्कोप के माध्यम से सर्जरी की जाती है। इस प्रकार के सर्जरी में मरीज को ठीक होने में 15—2० दिनों का समय लगता है।

जबकि दूरबीन के माध्यम से ऑपरेशन करने के बाद मरीज को दूसरे तीसरे दिन ही अस्पताल से छुट्टी दे दी जाती है। इस प्रकार के ऑपरेशन में मरीज के शरीर से खून का रिसाव भी काफी कम मात्रा में होता है।

डॉ. अशीष ने बताया कि ब्रेन ट्यूमर कई कारणों से हो सकता है। इसके कारण का अभी तक पता नहीं चल सका है। कुछ लोगों में ट्यूमर अनुवांशिक कारण से भी हित है। ब्रेन में ट्यूमर होने के कारण सिर में दर्द, उल्टी, बेहोशी, हाथ पैर काम करना बंद कर सकता है। वहीं, कुछ मरीजों में मिर्गी का दौरा पडऩा, पेशाब (यूरीन) में दिक्कत होने लगती है। इस प्रकार के लक्षण मिलने पर तुरंत विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here