Poonam Chauhan/Alive News : ‘सावधानी हटी और दुर्घटना घटी’ इस तरह के स्लोगन पर आपकी नज़र जरुर पड़ती होगी, लेकिन इस पर अमल कितना होता है यह ‘अलाईव न्यूज’ की तस्वीरों को देखकर समझा जा सकता है। तस्वीरों को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि कैसे लोग अपनी जान की परवाह किए बगैर रेलवे फाटक पार करते हैं। यहां तक की रेलवे ट्रैक पर खड़ी मालगाड़ी के नीचे और ऊपर चढक़र क्रॉसिंग करते है। रेलवे ट्रैक पर लोग जान जोखिम में डालकर मालगाड़ी एवं तेल की रैक के नीचे से गुजरते हैं, लेकिन ट्रैक की सुरक्षा में लगे अफसर इस ओर ध्यान देना जरूरी नहीं समझते। इससे ट्रैक पर दुर्घटना होने का अंदेशा बना रहता है।

पलवल-फरीदाबाद से आने वाली और दिल्ली जाने वाली रेल लाइनों में अकसर मालगाड़ी एवं तेल की रैक घंटों खड़ी रहती है। लक्कड़पुर, शिवदुर्गा बिहार और इरोज फ्लेट से आने वाले लोग जल्दी के चक्कर में अपनी जान को जोखिम में डालकर रेलवे ट्रैक पर खड़ी मालगाड़ी एवं तेल की रैक के नीचे या ऊपर से चढक़र गुजरते हैं। वहीं स्कूली बच्चे हो या कॉलेज जाने वाले युवा बेधडक़ रेलवे ट्रैक पर ग्रीन सिगन्ल में भी मस्ती करते है और अपने करतब दिखाते देखे जा सकते है।

रेलवे के अनुसार रेलवे लाईन क्रॉस करते हुए पाए जाने पर दण्डित किए जाने का प्रावधान है। रेलवे विभाग ने कई बार रेलवे लाईनों से अभियान के तह्त दर्जनों लोगों को पकडक़र जुर्माना वसुला है। इसके बावजूद भी लोग फाटक बंद होने के बाद भी रेलवे लाईन क्रॉस करने से बाज नहीं आते। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि रेलवे ट्रैक पर हर समय दुर्घटना होने की आशंका बनी रहती है, लेकिन रेलवे अफसर और आरपीएफ इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।

– नियमों की किसे है परवाह
आरपीएफ रेलवे बंद फाटक को क्रॉस करने से मना करती है। ऐसा करना रेलवे एक्ट का उल्लंघन है और इसके लिए दण्ड का प्रावधान भी है। लेकिन अक्सर मैन पावर की कमी से इस तरह की धरपकड़ नहीं हो पाती है। लोगों को नुक्कड़ नाटक और विज्ञापन के जरिए अवेयर किया जाता हैं। साथ ही आसपास की आरडब्ल्यूए, स्कूलों, कंपनियों से मिलकर भी रेलवे फाटकों के प्रति लोगों को अवेयर किया जा रहा है। लेकिन फिर भी लोग अपना जान को जोखिम में डालकर फाटक पार करते है।

– क्या कहते है स्टेशन अधीक्षक
जो लोग इस तरह से क्रॉसिंग करते है वो गलत है, आरपीएफ द्वारा उनके खिलाफ कार्यवाही करते हुए चालान काटा जाता है। लक्कडपुर फाटक से इस तरह की बहुत शिकायते आती है। ऐसे लोगों को जागरूक करने के लिए आरपीएफ और जीआरपीएफ द्वारा समय-समय पर कार्यक्रम किए जाते है। रेलवे ट्रैक को कोर्स करना रेलवे एक्ट का उल्लंघन करना है।
– के.सी.मीणा, ओल्ड रेलवे स्टेशन अधीक्षक।

– क्या कहता है आरपीएफ
रेलवे फाटकों पर रेलवे की तरफ से सुचना बोर्ड लगाया जाता है और रेलवे ट्रैक को क्रॉस करने से रोकना और ऐसे लोगों की हमें जानकारी देना गेट मैन का काम होता है। आरपीएफ द्वारा ऐसे लोगों के चालान काटे जाते है ताकि भविष्य में ऐसी गलती न हो। रेलवे एक्ट का उल्लंघन कर अपनी जान दाव पर लगाने वाले लोग दुर्घटना के स्वयं जिम्मेदार होते है। गेड मैन को ऐसे लोगों को लाईन क्रॉस करने से रोकना चाहिए।
– नरेश कुमार, आरपीएफ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here