दुर्गा पूजा : औद्योगिक नगरी पर चढ़ेगा ‘बंगाली रंग’

0
31

Faridabad/Alive News : कलकत्ता का सुप्रसिद्ध और धूमधाम से मनाया जाने वाला पर्व ‘दुर्गा पूजा’ जिसकी झलक हार्डवेयर-बाटा रोड़ स्थित दुर्गा बाड़ी में पिछले 53 वर्षो से देखने को मिल रही है। फरीदाबाद दुर्गा बाड़ी में दुर्गा पूजा की तैयारी जोरो-शोरो से चल रही है।

संस्था के जनरल सेक्रेटरी डी.के. पाल ने बताया कि इस मंदिर में दुर्गा पूजा करने का उद्देश्य लोगों को बंगाल के रीति-रीवाजों से अवगत कराने के साथ-साथ दुर्गा पूजा के महत्व को समझाना है। उन्होंने बताया की राम षोष्ठी से शुरू यह पर्व विजय दशमी पर दुर्गा मां की मूर्ति के विर्सजन के साथ समाप्त होगा। चार दिनों तक चलने वाले इस त्यौहार में मां दुर्गा की पूजा-अर्चना के साथ-साथ भक्तों के भरपूर मनोरंजन का पूरा इंतजाम किया गया है।

प्रदूषण रहित होगी दुर्गा पूजा
इस बार दुर्गा पूजा में पंडाल में विराजमान होने वाली दुर्गा मां की मूर्ति को बनाने में किसी प्रकार के कैमिकल का इस्तेमाल नही किया गया है। क्योंकि विजय दशमी पर गंगा में कैमिकल युक्त मूर्ति विर्सजन करने से वातावरण प्रदूषित हो जाता था। इसलिए इस बार संस्था ने वातावरण को प्रदूषण रहित करने के लिए मां दुर्गा की ईको फ्रेंडली मूूर्ति बनाई है, जिसमें यमुना नदी से लाई मिट्टी का उपयोग किया गया है। पाल ने बताया कि इस बताया कि यह जागरूकता केवल संस्था तक सीमित तक नही रहेगी, बल्कि मंदिर में आने वाले भक्तों को भी एक कार्यक्रम द्वारा पोलीथीन मुक्त का संदेश दिया जाएगा।

हर शाम भक्तों को दिखेगा कुछ नया
दुर्गा बाड़ी में आने वाले भक्तों के मनोरंजन का भी पूरा ध्यान रखा गया है। हर शाम भक्तों के मनोरंजन के लिए स्टेज पर सांस्कृतिक कार्यक्रम देखने को मिलेंगें। कार्यक्रम में कल्चरल एक्टिविटी, म्यूजिकल चेयर, तम्बोला, शंख, ड्रांइग, कविता, फेंसी ड्रेस कम्पटीशन का भी आयोजन होगा। कम्पटीशन जीतने वाले व्यक्तियों को संस्था की तरफ से पुरूस्कार देकर सम्मानित किया जाएगा।

मां की प्रतिमा में दिखेगी कलकत्ता की झलक
पांडाल में विराजमान होने वाली मां की प्रतिमा आर्कषक का मुख्य केंद्र होगी। मंदिर में मां दुर्गा की प्रतिमा को आकर्षक रूप दिया जा रहा है। जिसे कलकत्ता से आए कलाकार द्वारा तैयार किया जा रहा है। कलाकारों ने बताया इस बार मां की मूर्ति को खास तरीके से बनाया जा रहा है, जिसमे मां की प्रतिमा को कलकत्ता के हुनर ने विशेष और अनोखी कलाकृति का रूप देकर तैयार किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here