फरीदाबाद कोर्ट में बंदरों का आतंक, पिंजरे में कैद हुए वकील

0
27

Faridabad/Alive News : फरीदाबाद कोर्ट में आजकल एक ऐसा नजारा देखने को मिल रहा है। जहां बंदरों ने वहां बैठे वकीलों को पिंजरे में कैद होने पर विवश कर दिया है। फरीदाबाद की कोर्ट में बंदरों का आतंक इतना अधिक है कि वकील अपनी सीट पर बैठकर काम तक नहीं कर सकते। ये बंदरों न केवल वकीलों के कागज-डायरियां उठाकर ले जाते हैं बल्कि अचानक ही वकीलों पर हमला कर उन्हें घायल कर देते हैं।

कई वकीलों को ये बंदर अपना शिकार बना चुके हैं। बंदरों के आतंक से परेशान फरीदाबाद कोर्ट के वकील इस मामले में नगर निगम और वन विभाग को शिकायत कर चुके है। लेकिन इसके बावजूद दोनों ही विभाग एक-दूसरे पर बात डालकर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं।

अब तक ये बंदर कई वकीलों को काट चुके हैं। जिसके कारण वकीलों को उपचार के लिए कई-कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ता है। बंदरों का शिकार हो चुके वकील ने बताया कि उन्हें पैर पर बंदर ने काट लिया था। जिसके कारण एक महीने उन्हें अस्पताल के चक्कर काटने पड़े।

रैबीज के कई इंजैक्शन लगवाने पड़े। इतना ही नहीं उनका कहना है कि बंदर उनकी सीटों पर रखे जरूरी कागजों को भी ले जाते हैं और उन्हें फाड़ देते हैं जिसके कारण उनका वकालत करना मुश्किल हो गया है।

वकीलों का कहना है कि बंदरों के रहने की जगह पर इंसानों का कब्जा हो गया है इसलिए बंदर आबादी में आ गए हैं। इन बंदरों को इनकी जगह पर प्रशासन भेजे ताकि लोगों को परेशानी न हो। वहीं, फोरेस्ट विभाग का कहना है कि नगर निगम बंदरों को पकडऩे का काम करता है।

उनका विभाग केवल नगर निगम को परमिशन देता है। सैक्टर-12 कोर्ट में बंदरों को पकडऩे के लिए नगर निगम को परमिशन दे दी गई है। इसके बावजूद जब दोबारा बार-बार उन्हें शिकायत मिली तो उन्होंने पिंजरे भी लगवाए हैं। परंतु बंदर इतने चालाक हैं कि पिंजरे में आते ही नहीं हैं।

Print Friendly, PDF & Email

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here