लव जिहाद के नाम पर मजदूर को जिंदा जलाने वाले शंभूनाथ के परिवार को मिल रही आर्थिक मदद

0
30

New Delhi/Alive News : राजस्थान के राजसमंद में पश्चिम बंगाल के मजदूर को लव जिहाद के नाम पर जिंदा जलाने वाले शंभूनाथ रैगर के परिवार की आर्थिक मदद करने के लिए सोशल मीडिया पर लोग आगे आ रहे हैं. शंभूलाल की पत्नी के खाते में लोग 3 लाख रुपये जमा कर चुके हैं. एक चैनल के अनुसार पुलिस ने अब उसके बैंक खाते को सील कर दिया है. इस खाते में शंभूनाथ के नाम से चंदा इकट्ठा किया जा रहा था. पुलिस ने बताया कि शंभूनाथ की पत्नी सीता के बैंक खाते में देश के विभिन्न हिस्सों से 516 लोगों ने चंदा के नाम पर पैसा जमा किया है. पुलिस ने इस मामले में दो कारोबारियों को भी गिरफ्तार किया है जो सोशल मीडिया पर शंभूनाथ की मदद के लिए अभियान चला रहे थे. इस कारोबारियों ने शंभूनाथ की पत्नी के बैंक खाते का नंबर परिवार की मदद की अपील के साथ डाला हुआ था.

उदयपुर डिवीजन के आईजी आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि पुलिस खाते में पैसा जमा करने वाले लोगों के बारे में भी छानबीन कर रही है कि उनका शंभूलाल से क्या संबंध है. खाते को सीज किए जाने तक उसमें तीन लाख रुपये जमा किए जा चुके थे. पुलिस ने इलाके में हालात को काबू में रखने के लिए धारा 144 लागू कर दी है. साथ ही जिले की इंटरनेट सेवाएं भी कुछ समय के लिए बंद कर दी गई हैं. पुलिस ने ये कदम कुछ हिंदूवादी संगठनों द्वारा शंभूनाथ के समर्थन में रैली निकालने की घोषणा के बाद उठाया है.

आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि इस हत्याकांड के बाद सोशल मीडिया पर कुछ नफरत फैलाने वाले संदेश भेजे जा रहे थे. इसे देखते हुए राजसमंद और उदयपुर ज़िलों में धारा 144 लागू कर दी गई है. आपत्तिजनक पोस्ट डालने और अफवाह फ़ैलाने के मामले में अब तक कुल छह लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

बता दें कि बीते 6 दिसंबर को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक आदमी एक अन्य आदमी पर पहले तो गैंती से हमला कर रहा था. बाद में पीड़ित पर पेट्रोल डालकर आग लगा देता है. आग लगाने के बाद आरोपी कैमरे के सामने आकर हिंदूत्व विचारधारा के नारे लगाता है और लव जिहाद करने वालों को ऐसे ही सबक देने की बात कर रहा था.

बाद में आरोपी की पहचान शंभूनाथ रैगर के रूप में हुई. हत्या की लाइव रिकॉर्डिंग उसने अपने नाबालिग भतीजे से करवाई थी. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था. मृतक की पहचान पश्चिम बंगाल के मालदा से आए प्रवासी मज़दूर मोहम्मद अफ़राजुल के तौर पर हुई थी. राजस्थान में हुए इस जघन्य हत्याकांड की सभी ने कड़ी निंदा की थी, वहीं कुछ कथित हिंदूवादी संगठनों ने शंभूनाथ को भारतीय संस्कृति का रक्षक बताते हुए महिमामंडित किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here