Jodhpur/Alive News : अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद द्वारा आसाराम को ‘फर्जी’ बाबा घोषित करने से जुड़े एक पत्रकार के सवाल से नाराज होकर आसाराम ने खुद के लिए ही गधा शब्‍द का इस्‍तेमाल किया. उन्‍होंने कहा कि वह ‘‘गधे’’ की श्रेणी में आते हैं. नाबालिग लड़की के कथित यौन उत्पीड़न के मामले में यहां अदालत की सुनवाई का सामना कर रहे आसाराम को जब अदालत परिसर लाया गया तो उससे परिषद के फैसले पर प्रतिक्रिया मांगी गई. कुछ दिन पहले ही अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की ओर से घोषित फर्जी बाबाओं की लिस्ट में राम रहीम, राधे मां और रामपाल जैसे कथित बाबाओं के अलावा आसाराम का नाम भी शामिल था. आसाराम नियमित सुनवाई के लिए जोधपुर अदालत परिसर में था.

आसाराम से जब सवाल पूछा गया कि अखाड़ा परिषद ने साफ कर दिया है कि आसाराम न तो संत है और न ही प्रवचनकर्ता है तो वह किस श्रेणी में आते हैं. उसने कहा, ‘गधे की श्रेणी में.’ गुस्से में आसाराम इतना कहकर आगे निकल गए. आसाराम ने खुद को इस लिस्ट में शामिल किए जाने पर भले नाराजगी जताई, लेकिन अखाड़ा परिषद के बारे में कुछ भी कहने की हिम्मत नहीं जुटा सके.

इससे पहले बुधवार को आसाराम ने कहा था कि तबीयत ठीक नहीं होने के कारण मैं बोल नहीं रहा हूं और आप कहते हो कि मैं बहाने बना रहा हूं. आसाराम रेप के आरोप में पिछले 4 साल से जोधपुर की जेल में बंद है. गौरतलब है कि आसाराम पर 16 साल की लड़की से रेप का आरोप है. जोधपुर पुलिस ने आसाराम बापू को 3 अगस्त 2013 को गिरफ्तार किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here