रामलीला मंच पर जब बर्फ के विशाल पहाड़ में समाई ‘गायत्री’

0
19

14 Oct. Photo-1

फरीदाबाद : श्री धार्मिक रामलीला कमेटी एनआईटी-5 नम्बर एम ब्लॉक के र्निदेशक हरीश चन्द्र आज़ाद ने बताया आज रामलीला का उद्धाघाटन पूर्व मंत्री ए.सी.चौधरी ने किया और श्रवण कुमार के नाटक के साथ रामलीला का मंचन आरम्भ किया गया। धार्मिक लीला के मंच का जैसे ही दशरथ के दरबार का प्रथम पर्दा खुला तो दर्शक मनमोहक दरबार देखकर दंग रह गये और बिना किसी संवाद के दर्शकों ने दरबार की शोभा देखते हुए तालियां बजाई।

दशरथ के रोल में सतीश नागपाल ने अपनी आर्कषक ड्रैस और मनमोहने वाले अभिनय से दर्शको की वाहवाही लूटी और जैसे ही रामलीला के सबसे पुराने कलाकार अनिल नागपाल ने श्रवण के रोल में दशरथ दरबार में कदम रखा और जब गुरू वशिष्ठ का रोल निभा रहे राजू ने श्रवण को उनके माता-पिता के अंधे पन को दूर करने का उपाय बताया तो उनके संवाद बोलने की अदा ने सबका मन मोह लिया।

आज के मंच का सबसे ’ज्यादा आर्कषण बर्फ के विशाल सुन्दर पहाड़ में श्रवण कुमार की पत्नी गायत्री का समाना और उसी बर्फ के पहाड़ से भगवान बद्रीनाथ का प्रगट होना रहा यह आधुनिक कला से दर्शाया गया सीन दर्शको को खूब पंसद आया । इसके साथ साथ महल जैसा सज़ा दशरथ का दरबार जिसको बसंत वाटिका के मालिक श्री गोलडी जी द्वारा रामलीला को अपने योगदान से दिया वह दरबार देखकर सभी दर्शक मनमोहित हुए तथा कलाकारों की अभिनय कला ने मंचन को चार चाँद लगा दिये । इसके साथ बाल कलाकारों के अभिनय को सबने बहुत सराह बाल कलाकार में श्रवण कुमार , उनके माता पिता और बाल दशरथ ने अपनी कला के जादू से सबका मन जीता ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here