घंटो लाईन में खड़े होने के बाद भी बिना इलाज घर लौट रहीं गर्भवती महिलाएं

0
99

Faridabad/Alive News : गर्भवती महिलाओं के लिए सरकार ने कई योजनाएं चलाई हुई हैं लेकिन अस्पताल में उन्हें उपचार करवाने के लिए घंटों लाइनों में खड़े होना पड़ रहा है। यही नहीं, ओपीडी के बाहर उनके बैठने तक के पर्याप्त इंतजाम नहीं हैं। महिलाएं फर्श पर बैठकर अपने नम्बर का इंतजार करने को मजबूर हैं। जिला अस्पताल में सुबह से लाइन में खड़े होने के बावजूद गर्भवती महिलाएं अपना ट्रिटमेंट कराने में असमर्थ है, क्योंकि प्रतिदिन करीब ढाई सौ से ज्यादा मरीजों को देखने के लिए अस्पताल में केवल एक ही महिला डॉक्टर मौजूद है।

शनिवार को अस्पताल में यही नजारा देखने को मिला इलाज के लिए आईं कुछ महिलाएं फर्श पर बैठी मिली, तो कुछ लंबी-लंबी कतारों में अपने नम्बर का इंतजार करती दिखी। इसके अलावा कुछ का तो पूरे दिन खड़े होने के बाद भी नंबर तक नही आया। हैरानी की बात तो यह है कि इस ठंड में भी गर्भवती महिलाओं को फर्श पर बैठकर अपने नम्बर का इंतजार करना पड़ रहा है। गायनी ओपीडी के बाहर बीस-तीस महिलाओं के बैठने का इंतजाम है जबकि यहां हर रोज करीब ढाई सौ से अधिक की ओपीडी रहती है।

क्या कहती है गर्भवती महिलाएं-
संजय कॉलोनी निवासी सोनी और विभा ने बताया कि वह सुबह साढ़े सात बजे अस्पताल में आई थी और दोपहर 2 बजे तक भी नंबर नही आया। उन्होंने कहा कि यहां इतनी भीड़ होती है और अंदर एक ही डॉक्टर है इसलिए पूरा दिन अस्पताल में इलाज के लिए मशक्कत करने में निकल जाता है। वहीं सुभाष चौक निवासी गीता और जवाहर कॉलोनी प्रीति ने बताया कि वह केवल टीका लगवाने आई थी और सुबह 9 बजे से इंतजार कर रही है, परन्तु अभी तक नंबर नही आया। उन्होंने कहा वह कल भी आई थी, लेकिन लाइन में खड़े होने के बावजूद उनका नंबर नही आया और मजबूरन घर जाना पड़ रहा है।

Print Friendly, PDF & Email

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here