हार पर मंथन… कमजोर राज्यों में अब खुद जाएंगें मोदी

0
8

New Delhi/Alive News : तीन राज्यों में मिली करारी हार के बाद भारतीय जनता पार्टी अब लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई है। इस बार दक्षिण, पूर्व एवं पूर्वोत्तर पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी केरल, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, असम और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों में दो दर्जन से ज्यादा रैलियां करेंगे। इन इलाकों से लोकसभा की 122 सीटें आती हैं।

पार्टी चीफ अमित शाह ने गुरुवार को केंद्रीय पदाधिकारियों, राज्यों के चीफ और संगठन महासचिवों के साथ रणनीति तैयार करने के लिए मीटिंग की। इस बैठक में अमित शाह ने तीन राज्यों की हार को लेकर कहा कि इससे परेशान होने की जरूरत नहीं है। सूत्रों के मुताबिक शाह ने नेताओं से कहा कि इस संदेश का सम्मान करना चाहिए। यही नहीं शाह ने राजस्थान और मध्य प्रदेश में पार्टी को मिले वोटों का जिक्र करते हुए कहा कि यह आंकड़ा बताता है कि लोगों का बीजेपी पर भरोसा बना हुआ है।

2019 के आम चुनाव से पहले पीएम मोगी एक बार फिर से 2013-14 वाले चुनावी मोड में आने की तैयारी में हैं। पार्टी सूत्रों ने कहा कि अगले सप्ताह की शुरुआत से पीएम मोदी उन इलाकों पर फोकस करना शुरू करेंगे, जहां बीजेपी ने कभी भी जीत हासिल नहीं की है। ये सीटें दक्षिण भारत (कर्नाटक से इतर), ओडिशा, पश्चिम बंगाल, असम एवं अन्य पूर्वोत्तर राज्यों की हैं।

पार्टी ने प्रचार के इस एकदम शुरुआती चरण में 122 लोकसभा सीटों को चुना है, जहां अभियान को मजबूती दी जाएगी। यह प्रचार अभियान जनवरी के अंत तक चलेगा। एक जनसभा के जरिए दो से 5 सीटों को साधने का प्रयास किया जाएगा। इस लिस्ट में आंध्र प्रदेश और तेलंगाना की दो-दो सीटों, असम की सिल्चर और डिब्रूगढ़ सीट, केरल की 17 से 18 सीटों, तमिलनाडु, ओडिशा और पश्चिम बंगाल की 42 में से 40 सीटों को शामिल किया गया है। इसके अलावा पूर्वोत्तर की उन सीटों को चयनित किया गया है, जहां आज तक भगवा नहीं लहराया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here