Mumbai/Alive News : “पलटन” की रिलीज तारीख महत्वपूर्ण है क्योंकि यह युद्ध ड्रामा उसी सप्ताह में रिलीज हो रही है जब 50 साल पहले 11 सितंबर को सिक्किम सीमा पर भारतीय-चीनी युद्ध का आगाज़ हुआ था।

अपनी आगामी फिल्म पलटन के जरिये, निर्देशक जेपी दत्ता ने उन शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की जय जिन्होंने 1967 के भारत-चीन युद्ध के दौरान अपनी जान गवा दी थी। इस श्रद्धांजलि को और भी विशेष बनाने के लिए, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म निर्माता ने यह सुनिश्चित किया है कि ज़ी स्टूडियो के साथ सहयोग में बनी इस फ़िल्म को वास्तविक घटना की तारीख के करीब रिलीज़ किया जाए, जिससे फ़िल्म की कहानी प्रेरित है। इसलिए, अर्जुन रामपाल, सोनू सूद, हर्षवर्धन राणे और गुरमीत चौधरी अभिनीत “पलटन” इस वर्ष 7 सितंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगी।

संघर्ष तब शुरू हुआ जब हमारे सैनिकों ने चीनी समकक्षों की मांग के अनुसार, बॉर्डर समझे जाने वाले नाथू ला से सेबू ला पर फेंसिंग न बिछाने की डिमांड को मानने से इनकार कर दिया था। 1962 के चीन-भारतीय युद्ध की जीत से अभिमानी, चीनी ने हमारे सैनिकों पर गोलीबारी शुरू कर दी। जबकि हमारे सैनिकों को शुरुआत में हताहतों का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने न केवल चीनी सेनाओं को मशीन गन, तोपखाने और मोर्टार के साथ आड़े हाथ लिया, बल्कि दुश्मन को ‘ब्लडी नोज़’ भी दिया, जिसने अंततः 15 सितंबर को युद्धविराम का नेतृत्व किया।

फिल्म के पोस्टर लॉन्च पर भारत की जीत के बारे में बात करते हुए जेपी ने कहा था,”1962 में, चीनी ने युद्ध शुरू किया था और 1967 में, हमने इसे समाप्त किया था। यह हमारे इतिहास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here