बदलते मौसम में वायरल के मरीजों में हुआ इजाफा

0
35

Faridabad/Alive News : लगातार बारिश मौसम में नमी और उमस से लोगों का जीना मुहाल हो रहा है। ऐसे में जल जनित बिमारियों का प्रकोप भी बढ़ रहा है। सरकारी और गैर सरकारी अस्पतालों में मरीजों की संख्या ओपीडी में बढ़ रही है। इस मौसम में छोटे बच्चों के साथ-साथ सभी वर्ग के लोगों में जुखाम, गले में खरास और फूड पोइजन से होने वाली बिमारियां पन्नप रही है।

विशेषज्ञों के अनुसार इस मौसम में बाहर खाने-पीने से बचना चाहिए और पीने के पानी को उबाल कर या फिर आरओ का शुद्ध पानी घरेलू कार्यो में इस्तेमाल करना चाहिए। छोटे बच्चों को सप्लाई से आने वाले पानी के इस्तेमाल से दूर रखे। छोटे बच्चे के स्नान इत्यादि के लिए पानी में डिटोल डालकर इस्तेमाल करे ताकि छोटे बच्चों की सेनसिटीव स्कीन को कोई हानि न हो और बच्चे जल जनित बिमारियों से बचे रहे।

– डॉक्टर की राय
ऐसे मौसम में पीने के पानी का इस्तेमाल सावधानी से करना चाहिए और बाहर खाने-पीने से बचना चाहिए। घरों में सप्लाई हो रहे पानी को उबालकर पीना और घरेलू कार्यो के लिए इस्तेमाल करना चाहिए। ऐसे मौसम में हवा में नमी होने के कारण कीटाणुओं का प्रकोप ज्यादा रहता है। बिमारियों से बचने के लिए खाना खाने से पहले हाथ साबुन से धोने चाहिए। उन्होंने बताया कि इस वक्त उनके पास अधिकत्तर खरास खासी जुकाम और बुखार के मरीज अधिक आ रहे है। इन में छोटे बच्चे ज्यादा है।
-डॉ. संजीव कुमार, फरीदाबाद मेडिकल सेंटर।

Print Friendly, PDF & Email