इंस्पेक्टर अमित चार दिन के रिमांड पर, जल्द आएगा केस में नया मोड़

0
6

Faridabad/Alive News

पत्रकार पूजा तिवारी केस में पुलिस इंस्पेक्टर अमित को पुलिस ने चार दिन के रिमांड पर ले लिया है। हालांकि पुलिस ने न्यायालय में अमित को पांच दिन रिमांड पर देने की मांग की थी, लेकिन न्यायालय ने चार दिन की रिमांड पर ही दिया है। पुलिस ने न्यायालय में कहा है कि अमित से पुलिस को सबूत जुटाने हैं। पूजा का मोबाइल, लैपटॉप, टैब अभी बरामद करना है। इसके लिए अमित को रिमांड पर देने की मांग रखी गई।

वकील : चार दिन बाद सुसाइड नोट बरामद होना संदेह की स्थिति
वहीं डा. अनिल गोयल और अर्चना गोयल के वकील ने अपने क्लाइंट का पक्ष रखते हुए कहा कि मौत के चार दिन बाद जो सुसाइड नोट बरामद हुआ है यह बड़ा ही मजाकिया वाक्या लगता है क्योंकि पुलिस को वह सुसाइड नोट देने वाला खुद अब आरोपी है। उन्होंने कहा कि मौके के बाद तो पुलिस को पूजा के फ्लैट को सील कर देना चाहिए था, फिर वह सुसाइड नोट बाहर कैसे आया। जबकि पुलिस को वहां की तलाशी लेने पर वहां से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ। साथ-साथ लैपटॉप और पूजा का मोबाइल फोन व टैब न मिलना अपने आप में संदेह की स्थिति पैदा करता है। वकील ने कहा कि यदि पूजा ने मेरे क्लाइंट की वजह से आत्महत्या की होती, तो वह उसी समय कर लेती, जब एफआईआर दर्ज हुई थी न कि पच्चीस दिन बाद। पच्चीस दिन बाद हुई पूजा की मौत सीधे तौर पर अमित की ओर ही इशारा कर रही है।

स्यूसाइड नोट ने पत्रकार पूजा के केस का रुख मोड़ा !

अमित को भेजा गया था जांच में शामिल होने का नोटिस
सवालो के घेरे में आए इंस्पेक्टर अमित को जांच में शामिल होने का नोटिस पहले ही भेज दिया गया था। मामले में उसकी भूमिका की जांच के लिए नियुक्त एसीपी गजेंद्र सिंह ने नोटिस जारी कर अमित से जांच में शामिल होने के लिए कहा था।

सामने आया पूजा का सुसाइड नोट
पूजा तिवारी का एक सुसाइट नोट भी मिला है। पूजा ने मौत को गले लगाने से पहले अपने माता-पिता को एक चिट्ठी लिखी थी। जिसमें उसने लिखा कि उसके इस कदम के लिए कोई जिम्मेदार नहीं है। पूजा ने माता-पिता को भेजी गई चिठ्ठी में लिखा कि डॉक्टर अरूण और अर्चना गोयल भूण हत्या के लिए दोषी हैं। उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। पूजा ने अंत में लिखा कि ‘बहुत थक चुकी हूं, अब और हिम्मत नहीं’। इस सुसाइड नोट में पूजा ने हिदायत देते हुए लिखा कि कुछ भी बनना मगर पत्रकार मत बनना।

महिला ने कहा : पूजा की मौत का जिम्मेदार अमित है
इससे पहले बुधवार को उषा नाम की एक महिला ने इंस्पेक्टर अमित को पूजा की मौत का जिम्मेदार ठहराया था। महिला ने खुद को पूजा की मुंहबोली भाभी बताते हुए कहा था कि अमित और पूजा काफी लम्बे समय से एक दूसरे के साथ पति-पत्नी की तरह रह रहे थे।

समाजसेवियों ने माना पूजा तिवारी आत्महत्या नहीं कर सकती

हर बात शेयर करती थी पूजा
उषा के मुताबिक पूजा उसके घर से थोड़ी दूर एक किराए के मकान में रहती थी। पूजा का उसकी दुकान पर आना जाना होता था, इसी दौरान उनकी दोस्ती हो गई। उषा का दावा है कि पूजा ने अपने और अमित के रिश्ते के बारे में उसे हर बात बता रखी थी। उषा के मुताबिक इंस्पेक्टर अमित ने खुद को सिंगल बताया था, लेकिन बाद में पूजा को उसके शादीशुदा होने के बारे में पता चल गया था।

पत्रकार पूजा तिवारी की हत्या या आत्महत्या ?

पूजा का कराया गया था अबॉर्शन
उषा के मुताबिक अमित ने पूजा के गर्भवती होने के बाद उसका अबॉर्शन भी करवाया था। उषा ने बताया कि जब पूजा का पोस्टमार्टम हो रहा था, तब वह उसके मां-बाप से मिलकर सभी बातें बताना चाहती थी, लेकिन अमित और उसके साथ के कुछ लोगों ने उसे पूजा के मां-बाप से मिलने नहीं दिया।

हालाँकि पुलिस इंस्पेक्टर अमित को पुलिस ने चार दिन के रिमांड पर लेने से लगता है, मामले की सच्चाई कुछ ओर होगी। उधर, पुलिस का मानना कि अमित ओर उसके दोस्तों के आस-पास पूरा केश घूम रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here