साक्षात्कार : गोल्ड मेडलिस्ट अर्चना इंडियन आर्मी में बनना चाहती अफसर

0
142

सपने हमेशा ऊंचे देखने चाहिए ताकि उन्हें पूरा करने के लिए उतने ही एफर्ट लगा सके। ऐसा ही एक ऊंचा सपना डीएवी एनएच-तीन में पढ़ने वाली छात्रा अर्चना का है, जो इंडियन आर्मी में ऑफिसर बनना चाहती है। अर्चना ग्यारहवीं कक्षा में जीव विज्ञान (बायोलॉजी) की छात्रा है। अर्चना हैंडबाल में गोल्ड मेडलिस्ट हैं। “अलाइव न्यूज़” संपादक तिलक राज शर्मा के निर्देशन में रोज़ी सिन्हा द्वारा की गयी हैंडबाल गोल्ड मेडलिस्ट अर्चना से बात के कुछ अंश इस प्रकार है:

आपका हैंडबाल में इंट्रस्ट कैसे विकसित हुआ?
मुझे इंडियन आर्मी में अफसर बनना है, तो खेलों में रुचि रखना जरूरी है। स्कूल में ही स्पोर्ट्स पीरियड में हैंडबाल की प्रैक्टिस कराई जाती थी, तब से मेरा इंट्रस्ट विकसित हुआ है, जब से मैं हैंडबाल खेलती हूँ।

भविष्य में आप क्या करना चाहती हैं?
मैं आपको बता दूं, मेरा सपना है देश की आर्मी में सेवा करने का और बड़ा अफसर बनने का। क्योंकि मेरे रिश्तेदार लगभग सभी भारतीय सेना में है, परन्तु कोई लड़की नहीं है। इसलिए मैं चाहती हूं कि अपने परिवार से पहली लड़की आर्मी में ऑफिसर बनू।

आपका रोल मॉडल कौन है?
मैंने आपको पहले ही बताया कि मेरे रिश्तेदार भारतीय सेना में हैं और उनसे बड़ा मेरे लिए रोल मॉडल कौन हो सकता है, उन्ही की प्रेरणा से मैं आर्मी में अफसर बनना चाहती हूँ।

हैंडबॉल के लिए आप दिन में कितनी प्रैक्टिस करती हैं?
मैं दिन में दो घंटे प्रैक्टिस करती हूँ। प्रैक्टिस के लिए स्कूल की ओर से मुझे पूरा सपोर्ट है और मैं स्कूल में ही प्रैक्टिस करती हूँ।

फैमिली की ओर से आपको कितना सपोर्ट मिलता है?
फैमिली मुझे पूरा सपोर्ट करती है। और मेरी फैमिली स्पोर्ट्स के साथ साथ मेरा पढ़ाई में भी पूरा सपोर्ट करती है।

Print Friendly, PDF & Email