साक्षात्कार : फ्रेंड से इंप्रेस होकर शुरू किया हैंडबॉल और झटक लिया गोल्ड मैडल

0
220

आधुनिक समय में जहां नयी पीढ़ी के बच्चें मोबाइल के चार इंच की स्क्रीन के अंदर ही अपनी दुनिया सीमित रखते है वही कुछ विद्यार्थी ऐसे भी हैं जो पढाई के साथ- साथ खेलों में भी अच्छा प्रदर्शन करते है, ऐसा ही छात्रा एनएच-3 के डीएवी पब्लिक स्कूल में पढ़ने वाली तान्या तपस्वी है, जो ग्यारहवीं कक्षा की मानविकी की छात्रा है, जिसने अपनी पढ़ाई के साथ-साथ खेलों में भी अपनी पहचान बनाई है। तान्या तपस्वी ने हेड बॉल में गोल्ड मैडल हासिल किया है। तान्या तपस्वी स्पोर्ट्स के साथ-साथ पढ़ाई में भी 80 प्रतिशत से ज्यादा अंक लेकर अपने माता- पिता का नाम रोशन करती आ रही है। अलाइव न्यूज़ के संपादक तिलक राज शर्मा के निर्देशन में रोज़ी सिन्हा के द्वारा की गयी तान्या से बात के कुछ अंश इस प्रकार है:

1. आपका हैंडबॉल में इंट्रस्ट कैसे विकसित हुआ?
स्पोर्ट्स में मेरी हमेशा से ही रूचि है। मेरी फ्रेंड कनिष्का वो भी मेरे साथ हैंडबॉल खेलती है, उसको देखकर मैंने हैंडबाल खेलना शुरू किया।

2. आप कब से हैंडबॉल खेल रही है, और आप दिन में कितन प्रैक्टिस करती है?
मैं पिछले डेढ़ साल से हैंडबॉल खेलती आ रही हूँ। मैं प्रतिदिन दो घंटे हैंडबाल की प्रैक्टिस करती हूँ। मैं हैंडबाल की प्रैक्टिस स्कूल के सा -साथ स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स में भी करती हूँ। मैं स्पोर्ट्स कॉप्लेक्स में कोच मुकेश कुमार और रिंकू कदम की देख-रेख में प्रैक्टिस करती हूँ।

3. प्रतियोगिता के समय आप पढ़ाई और प्रैक्टिस को कैसे मैनेज करती हैं?
मैं आपको बता दूँ कि मेरे लिए पढ़ाई और प्रैक्टिस को एक साथ मैनेज कर पाना थोड़ा मुश्किल होता है, पर मैं दोनों को साथ में मैनेज कर लेती हूँ, मेरे टीचर्स बहुत हेल्पफुल है, मैं स्कूल के बाद एक्स्ट्रा क्लास लेकर पढ़ाई को मैनेज कर लेती हूँ।

4. आपकी फैमिली आपको कितना सपोर्ट करती है?
मुझे फैमिली की तरफ से पूरा सहयोग मिलता हैं। मुझ पर किसी भी तरह का कोई दवाब नहीं है।

5. भविष्य के लिए आपने क्या सोचा है?
मैं सिविल सर्विसेज की तैयारी करना चाहती हूँ, और देश की सेवा करना चाहती हूँ।

Print Friendly, PDF & Email