जब संपन्न बने निर्धन, असली हकदार हुए सूची से बाहर

0
43

Faridabad/Alive News : रविवार को आयुष्मान भारत के तहत केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने बीके अस्पताल में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का शुभारंभ किया है। यह लाभ वर्ष 2011 में केंद्र की ओर से किए गए सामाजिक, आर्थिक जाति जनगणना के सर्वे के आधार पर दिया जा रहा है। रविवार को लाभार्थियों की सूची में जब पूर्व मंत्री एसी चौधरी और उनके परिजनों का नाम सामने आया तो सभी हैरान रह गए।

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत सालभर में पांच लाख रुपये का नि:शुल्क इलाज लेने वालों की सूची में कांग्रेस के पूर्व मंत्री एसी चौधरी और उनके परिजनों का नाम भी शामिल है। सूची में नाम आने के बाद प्रशासनिक और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हलचल मच गई है। लोग इस बात को लेकर हैरानी जता रहे हैं कि संपन्न लोगों के नाम तो सूची में हैं और वास्तविक हकदार लाभ लेने से वंचित हैं।

मेरे खिलाफ साजिश विभाग पर करूगां केस
पूर्व मंत्री एसी चौधरी ने प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना पर ही सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि उनकी एक लाख रुपये से ज्यादा पेंशन आती है, ऐसे में उन्हें इस तरह से किसी योजना का लाभ लेने की जरूरत नहीं है। वर्ष 2011 के सर्वे की सूची का क्रॉस चेक कराया जाना चाहिए था जो सरकार ने नहीं किया। उन्हें अपमानित करने की साजिश है। वह संबंधित विभाग पर केस करेंगे।

गरीबों को फिर सरकार ने किया निराश
हरियाणा भूमि विकास बैंक के चेयरमैन अजय गौड़ का कहना है कि पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता एसी चौधरी गरीबों का हक मारने वाले हैं। ऐसे में पंजाबी बिरादरी के नेता कैसे हो सकते हैं। एसी चौधरी का नाम 2011 में हुई जनगणना के आधार पर उस सूची में आया है, जो आर्थिक सामाजिक रूप से पिछड़े हैं। नगर निगम के पार्षद जसवंत ङ्क्षसह ने इस मुद्दे से केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल को अवगत कराया और कहा कि उनके वार्ड नंबर 14 में कई संपन्न लोगों के नाम लाभार्थियों की सूची में हैं। कई हकदारों के नाम नहीं हैं।

Print Friendly, PDF & Email