जनता का क्या होगा जब ‘बाड़ ही खेत को खाने लगे’

0
71
कर्ण सिहं दलाल

Ballabgrah/Alive News : भाजपा पार्टी के प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री जीरो टोलरेंस भ्रष्टाचार की दुहाई देते नही थकते हैं, लेकिन हरियाणा में तो ‘बाड़ ही खेत को खाने लगी है’ जनता के प्रतिनिधि ही जनता के साथ अन्याय और अत्याचार कर उसे आत्महत्या के लिए मजबूर कर दें तो ऐसी सरकार और ऐसे नेताओं का जनता को क्या करना चाहिए? ऐसा ही एक मामला 17 अक्टूबर को थाना सीटी बल्लभगढ़ में एफआईआर न. 0935 दर्ज हुआ।

जिसमें एक बल्लभगढ़ निवासी अनिल कुमार नामक व्यक्ति ने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि भाजपा के राज्यसभा सांसद एवं हरियाणा के प्रभारी अनिल जैन और राजेश कुमार गर्ग और उसकी पत्नी अंशु गर्ग से तंग आकर आत्महत्या कर ली है। हालांकि राजेश और उसकी पत्नी अंशु पर आईपीसी की धारा 306 और 34 के तहत नामजद मुकद्दमा दर्ज है। जबकि अनिल जैन का नाम मृतक अनिल कुमार ने अपने सुसाइड नोट में साफ लिखा है कि आरोपी राजेश के कहने पर अनिल जैन उन्हें धमकी देते थे। यह खुलासा पलवल से कांग्रेस के विधायक कर्ण सिंह दलाल ने सेक्टर-16 ए के सर्किट हाऊस में पत्रकारों से रूबरू होते हुए किया।

भाजपा के प्रभारी राजनीतिक प्रभारी नहीं हैं, बल्कि फाईनेंस राज्य सचिव हैं
विधायक कर्ण दलाल ने कहा कि भाजपा हरियाणा प्रभारी अनिल जैन राजनीतिक प्रभारी नहीं हैं, बल्कि फाईनेंस राज्य सचिव हैं। जो पार्टी के आर्थिक मुद्दों को देखते हैं यह वो काम करते हैं किसी को पार्टी में टिकट दिलवानी हो, महकमें बदलवाने हो, किसी को मंत्री बनवाना हो और हटवाना हो। वो इस तरीका का ध्ंाधा करते है। उन्होंने कहा कि अनिल जैन फरीदाबाद के लेन-देन में बटवारे करवाने में अपने पद का दुरूपयोग कर मोटा पैसा ऐंठ रहे हैं। उनके साथ मिलकर और कई फरीदाबाद के भाजपा नेता भी उनका साथ दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि क्या सरकार के पास प्रभारी अनिल जैन के भ्रष्टाचार का कोई इलाज है।

ईमानदार पुलिस कमिश्रर क्यों नही करते अनिल जैन को गिरफ्तार
पलवल के विधायक कर्ण दलाल ने कहा कि फरीदाबाद के पुलिस कमिश्रर अगर इतने ही ईमानदार और कानून व्यवस्था का दम भरते हैं तो क्यों नही करते अनिल जैन को गिरफ्तार। उन्होंने कहा कि बल्लभगढ़ के इस मामले में पुलिस कमिश्रर की ईमानदारी का इम्तेंहान है कि एफआईआर में अनिल जैन का नाम है और गिरफ्तार अभी तक नही हुई है। इस घटना के बाद से फरीदाबाद पुलिस पर सवाल उठ रहे है। इस मामले से फरीदाबाद पुलिस की परख जनता को होगी। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद पुलिस जनता में गरीब लोगों में दहशत डालने के लिए है या फिर सत्ता में बैठे बड़े मगरमच्छों पर भी कार्यवाही कर पाएगी।

सरकार में सक्रिय खनन माफिया
कर्ण दलाल ने बताया कि हरियाणा के माईनिंग विभाग की पर्चियां छपवाकर अवैध रूप से राजनीतिक संरक्षण से खनन माफिया चोरी से पलवल-फरीदाबाद के रेत को चोरी कर महंगी कीमतों पर लोगों को बेच रहे है। इससे सरकार के राजस्व पर करोड़ों की डकैती डल रही है। इसमे भाजपा सरकार के मंत्री, विधायक और अनिल जैन जैसे लोगों का हाथ का है। सरकार के कोष में वृद्धा पेंशन, कर्मचारियों की पेंशन और वेतन देने तक का पैसा नही है। कोष को भरने की बजाए इस सरकार में अवैध रूप से कार्य हो रहे है।

26 लाख गरीब राशन धारको के कार्ड कटे
कर्ण दलाल ने कहा कि भाजपा की इस सरकार को खुद पता है कि 26 लाख लोगों का राशन बंद कर दिया गया है और उनके राशन कार्ड काट दिए गए है। उन्होंने इस मुद्दों को भी विधानसभा में उठाया था उसी का परिणाम है जो वह हरियाणा की सभी जिलों में भाजपा की पोल खोलते हुए लगातार प्रेस कॉन्फेंस करते आ रहे हैं।

मेरे से मुकाबला अभय चौटाला की हैसीयत नही
कर्ण दलाल ने बताया कि विधानसभा के सत्र के दौरान अभय चौटाला मुख्य विपक्ष होने के बाद भी भाजपा के बांउसर बनकर उनसे भीड़े थे। उन्होंने कहा कि मेरी उनकी कोई लड़ाई नही हैं। उन्होंने कहा कि ‘मैंने किसी को श्राप नही दिया है न मैं देता हूं’ और रही बात अभय चौटाला की तो पहले वह अपने परिवार को तो बचा ले। मेरे से मुकाबला अभय चौटाला की हैसीयत नहीं। उन्होंने कहा कि उनका मुकाबला सत्ताधारी भाजपा से है। जो भाजपा जाति, धर्म का भेदभाव कर प्रदेश को बांटने में लगी हुई है मैं उसकी पोल खोलने के लिए प्रदेश के हर जिले में जा रहा हूं।

कारखानों में प्रदूषण, पराली जलाने पर बिजली बंद
कर्ण दलाल ने कहा कि भाजपा की सरकार को शहर और शहर के जंगलों में लगे कारखानों का प्रदूषण दिखाई नही देता, परंतु किसानों के द्वारा पराली जलाए जाने पर पूरे गंावों की बिजली काटने की धमकी अधिकारियों द्वारा दी जा रही है। उन्होंने कहा कि किसानों पर जुर्माने ठोके जा रहे हैं, शहरों में अधिकारी कारखानों से मोटी वसूली कर रहे है और सरकार के जीरों टोलरेंस भ्रष्टाचार के रिर्र्कोड को तोड़ रहे है।

स्मार्ट सिटी बना तमाशा
पलवल के विधायक कर्ण दलाल ने कहा कि स्मार्ट सिटी फरीदाबाद कहकर फरीदाबाद का सरकार तमाशा बना रही है। फरीदाबाद के मुकाबले में गुरूग्राम कहा का कहा पहुंच गया। लेकिन फरीदाबाद को स्मार्ट सिटी के नाम पर कोई सुविधा नही मिल रही। यहां पर अधिकारियों ने स्मार्ट सिटी के नाम पर धन ऐंठने का काम बखूबी किया है। जो भी डेवलपमेंट के कार्य हुए कांग्रेस सरकार के दौरान हुए है, यह सरकार तो केवल उद़्घाटन करने का कार्य कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here