जींद उपचुनाव : जाट लेंड पर किस-किस नेता की साख लगी दांव पर, जानिए

0
26

TilakRaj Sharma/Alive News

Faridabad : जींद उपचुनाव को सभी राजनीतिक दल हरियाणा लोकसभा का सेमीफाइनल मान कर चल रहे हैं। विधानसभा उपचुनाव में कई राजनीतिक दलों की शाख दाव पर लगी हुई है, तो कोई राजनीतिक दल अपनी जमीन बचाने में लगा हुआ है। कांग्रेस ने रणदीप सिहं सुरजेवाला को उपचुनाव में उतार कर पूर्व विधायक एवं उनके पिता शमशेर सिंह सुरजेवाला की छवि और सूरजेवाला की लोकप्रियता का लाभ मिलने का भरोसा जताया है, क्योंकि रणदीप ङ्क्षसह सूरजेवाला का परिवार कई बार राजनीति पारी जींद क्षेत्र से खेल चुके हैं और जीत हासिल कर विधानसभा में पहुंचे है।

जिस सीट से रणदीप सिंह सुरजेवाला चुनाव लड़ते थे, वह सीट आरक्षित होने की वजह से उन्हें अपनी सीट छोडक़र कैथल से चुनाव लडऩा पड़ा था। दूसरा 2015 के चुनाव में मोदी लहर होने की वजह से भी वह कैथल से जीत हासिल कर विधानसभ पहुंचे। लेकिन उपचुनाव में कांग्रेस जाट लैंड पर रणदीप सिंह सूरजेवाला के रूप में बड़ा चेहरा उताकर जीत का शंखनाद मान रही है। पंजाबी सीट मानकर बीजेपी कृष्ण ङ्क्षसह मिड्ढा को टिकट देकर उपचुनाव को लोकसभा का सेमिफाइनल मान कर चल रही है और पूरी ताकत के साथ भाजपा के मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक और पार्टी प्रभारी के साथ प्रदेश और देश के नेता चुनाव में कूद चुके हैं।

यहां तक की हरियाणा सरकार जींद से चल रही है। भाजपा के प्रत्याशी कृष्ण सिंह मिड्ढा तत्कालीन इनैलो विधायक डॉ. हरिचंद मिड्ढा के बेटे हैं। जिनकी मृत्यु के बाद जींद सीट खाली होने पर यह उपचुनाव कराए जा रहे है। हालांकि इस सीट पर इंडियन नेशलन लोक दल के सुप्रीमों चौधरी ओमप्रकाश चौटाला जीत कर मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठ चुके है।

ओमप्रकाश चौटाला ने डॉ. हरिचंद मिड्ढा को अपनी पार्टी से पिछले विधानसभा में उतारकर पार्टी के नाम सीट कर ली थी। जिसकी वजह से जाट लैंड में जींद को पंजाबी सीट मानकर भाजपा ने डॉ. हरिचंद मिड्ढा के बेटे को अपना प्रत्याशी बनाया है। उधर, इनैलो ने कंडेला खाप के प्रतिनिधि उम्मेद सिंह रेड्ढू को उम्मीदवार बनाया है। जींद इनैलो का गढ़ होने की वजह से अभय सिंह चौटाला ने रेड्ढू पर उपचुनाव का दाव खेला है।

यह उपचुनाव इनैलो के लिए अपनी जमीन बचाने का है। इनैलो के दो फाड़ होने से राजनीति दो घरों में बंट चुकी है। हालांकि, इस सीट पर जाट तीन धड़ो में बंट चुके है। जननायक जनता पार्टी (जजपा) के संस्थापक युवा सांसद दुष्यंत चौटाला ने उपचुनाव से पहले जींद क्षेत्र में बड़ी रैली कर घोषणा की थी कि जींद उपचुनाव में उनके परिवार से ही प्रत्याशी उतारा जाएगा और दिगविजय चौटाला को उपचुनाव में उम्मीदवार बनाया गया है।

जजपा के संस्थापक दुष्यंत चौटाला ने बड़ी पारी खेलते हुए उपचुनाव को भविष्य की राजनीति के रूप में देखते हुए ताकत लगाई हुई है। अजय चौटाला के जेल के बाहर आने के बाद दुष्यंत चौटाला की लोकप्रियता में खासी बढ़ोत्तरी देखी जा रही है। हरियाणा में जनता उपचुनाव को कई तरह से देख रही है, जिसमें रणदीप सिंह सुरजेवाला को मानकर चल रही है कि कांग्रेस ने रणदीप सिहं सुरजेवाला को जबरदस्ती झोंका है। उधर, अभय सिंह चौटाला जमीन और पार्टी को बचाने में लगे है तथा जजपा पर भविष्य की राजनीति बचाने की लगी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here