वजन कम करने से लेकर इम्युनिटी सिस्टम मजबूत करने तक जानिए इस मसालें के फायदे

0
32

सोंठ की तासीर गर्म होती है इसलिए इसका सेवन गर्मियों की तुलना सर्दियों में अधिक किया जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि सोंठ क्या होती है, जानिए सोंठ से जुड़ी सारी जानकारी।

सोंठ क्या होती है
सूखी अदरक के पीसे हुए पाउडर को सोंठ कहते हैं। सोंठ की तासीर भी अदरक की ही तरह गर्म होती है। जिसकी वजह से उसकी बेहद ही कम मात्रा में सेवन करना सबसे फायदेमंद होता है। सौंठ का अधिक सेवन करने से सीने में जलन, डायरिया, पेट संबंधी रोग, होने की अंशका बढ़ जाती है।

जुकाम से राहत
सोंठ अदरक का पाउडर है, जो हर घर की रसोई में उपयोग किया जाता है। इसे मुख्यतः सब्जी, चाय और अन्य पेय पदार्थों में इस्तेमाल किया जाता है। शोध के अनुसार, अदरक मलेरिया और बुखार जैसी समस्याओं के साथ सर्दी-जुकाम से राहत देने का काम कर सकता है । इसलिए, माना जा सकता है कि सोंठ का प्रयोग कर जुकाम से राहत पाई जा सकती है।

वजन कम करने के लिए
सोंठ का उपयोग शरीर के वजन को कम करने के लिए किया जा सकता है। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि सोंठ अदरक का चूर्ण है और अदरक में लिपिड प्रोफाइल कम करने की क्षमता होती है। शोध के अनुसार, अदरक लिपिड प्रोफाइल को कम कर वजन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

पेट की जलन से राहत
पेट की जलन को दूर करने में अदरक कारगर भूमिका निभा सकता है। दरअसल, इस खाद्य पदार्थ का इस्तेमाल प्राचीन समय से पेट से जुड़ी हुई कई समस्याओं, जैसे कब्ज, दस्त, अपच, पेट फूलना, गैस, गैस्ट्रिक अल्सर, मतली और उल्टी का इलाज करने के लिए किया जा रहा है, जो पेट में जलन का कारण बन सकती हैं।

सिरदर्द
सिरदर्द में भी सोंठ के फायदे देखे जा सकते हैं। दरअसल, एक पारंपरिक दवा के रूप में अदरक का इस्तेमाल लंबे समय से किया जा रहा है। अदरक उल्टी, मतली के साथ सिरदर्द और यहां तक कि माइग्रेन को ठीक करने की क्षमता रखता है।

पाचन के लिए
सोंठ फाइबर से समृद्ध होता है, जो पाचन क्रिया में सुधार का काम कर सकता है और कब्ज जैसी पाचन संबंधी समस्याओं पर भी प्रभावी असर दिखा सकता है।

इम्युनिटी सिस्टम के लिए
शरीर के इम्यून सिस्टम के कमजोर होने पर कई तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। यहां सोंठ एक अहम भूमिका निभा सकता है। दरअसल, अदरक और अदरक से बने खाद्य उत्पाद अपने एंटी इंफ्लेमेटरी गुण से इम्यून सिस्टम को बढ़ावा देने का काम कर सकते हैं। हालांकि, सोंठ पूर्ण रूप रोग प्रतिरोधक प्रणाली पर किस प्रकार काम करता है, इस पर अभी और शोध की आवश्यकता है।

मधुमेह
सोंठ का सेवन मधुमेह की समस्या से निजात दिलाने का काम कर सकता है। दरअसल, अदरक को लेकर किए गए शोध में इसमें मौजूद एंटी-डायबिटिक, हाइपोलिपिडेमिक और एंटी-ऑक्सीडेटिव गुणों के बारे में पता चला है, जो मधुमेह के रोगियों में शुगर की मात्रा को संतुलित करने का काम कर सकता है।

दांत दर्द से राहत
सोंठ का उपयोग एक आयुर्वेदिक दवा के रूप में कई शारीरिक समस्याओं के लिए किया जाता है, जिसमें दांत दर्द का उपचार भी शामिल है। दरअसल, अदरक एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण से समृद्ध होता है, जो दांत दर्द के राहत देने में एक अहम भूमिका निभा सकता है ।

सोंठ के नुकसान 
सोंठ को जरूरत से ज्यादा खाने से पेट में परेशानी उत्पन्न हो सकती है।
सोंठ के अधिक मात्रा हृदय की समस्या पैदा कर सकती है। दस्त और गैस जैसी समस्या भी हो सकती है। अब तो आप सोंठ के सारे औषधीय गुणों के बारे में जान ही गए होंगे। साथ ही ऊपर बताई गई समस्याओं पर यह किस तरह राहत पहुंचाने का काम कर सकता है, यह भी आपको अच्छे से पता चल गया होगा। आप सोंठ का इस्तेमाल लेख में बताए गए विभिन्न तरीकों को अपनाकर कर सकते हैं। हो सकता है कि इसके उपयोग के दौरान कुछ दुष्प्रभाव सामने आएं। दुष्प्रभाव की स्थिति में आप इसका सेवन बंद करें और डॉक्टर से संपर्क करें। उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपके लिए फायदेमंद साबित होगा। लेख से जुड़ी अन्य जानकारी और सुझावों के लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स की मदद ले सकते हैं। हमें आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा।

Print Friendly, PDF & Email