आपदा प्रबंधन व प्राथमिक सहायता का दिया प्रशिक्षण

0
82

Gurgaam/Alive News : डिजास्टर मैनेजमेंट के सीनियर एक्सपर्ट डॉ.एमपी सिंह ने इंडेन बॉटिलिंग प्लांट गुडग़ांव के कर्मचारियों और अधिकारियों को प्राथमिक सहायता का प्रशिक्षण दिया, जिसमें सिंह ने बताया कि इंडियन ऑयल एमएएच यूनिट है, जिसमें आग लगने के चांस अधिक होते हैं। इसलिए उन्होंने विभिन्न प्रकार की आगों के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए कहा कि केमिकल आग पर रेतयुक्त बैग व फॉग से जल्दी काबू पाया जा सकता है और हम पानी, मिट्टी, पेड-पौधों की टहनियों से आग पर काबू पा सकते हैं लेकिन व्यक्ति विशेष में आग लग जाने पर उक्त चीजों का प्रयोग नहीं करते हैं।

आग लगने की स्थिति में रोगी को भागने नहीं देना चाहिए। उसे जमीन पर लिटा देने के लिए संकेत करना चाहिए या उसे कंबल से चारों ओर से लपेटकर भी आग को बुझाया जा सकता है। आग से पीडि़त व्यक्ति को किसी प्रकार की क्रीम व लोशन का प्रयोग नहीं करते हैं। जले हुए भाग को पानी में डाल देते हैं साथ ही जलन कम करने के लिए बर्फीले पानी का प्रयोग तब तक करते हैं, जब तक कि जलन कम न हो जाए। आग लगने की स्थिति में भगदड़ मच जाती है, जिससे कई लोग गिर जाते हैं। उनके हाथ-पैर टूट जाते हैं।

उस स्थिति में पट्टी और फट्टी का प्रयोग करके उनको प्राथमिक सहायता की पोस्ट तक पहुंचाते हैं। ब्लैंकेट लि ट, टू हैंड सीट व स्ट्रेचर की सहायता से नजदीकी अस्पताल तक पहुंचा देते हैं। सेंट जॉन एंबुलेंस एसोसिएशन के अधिकृत प्राथमिक सहायता के लैक्चरार डॉ. एमपी सिंह ने अनेक प्रकार की घटनाओं पर काबू पाने के उपाय भी बताए। रक्त स्त्राव होने पर बेहोशी, गुम चोट लग जाने पर व मोच आ जाने पर उनको प्राथमिक सहायता देकर सुरक्षित स्थान तक पहुंचाने के तरीके से भी अवगत कराया और आपदा प्रबंधन की विस्तृत जानकारी दी ताकि भविष्य में होने वाली संभावित हानि पर काबू पाया जा सके।

कार्यक्रम का शुभारंभ इंडियन ऑयल के प्रबंधक श्याम लाल गुप्ता ने किया और कार्यक्रम की कॉर्डिनेटर कविता हजारिका ने आए हुए अतिथियों का स्वागत किया और उनका स मान किया। डॉ.एमपी सिंह ने बताया कि फरीदाबाद के उपायुक्त समीरपाल सरो के आदेशानुसार व रेडक्रॉस के सचिव बीबी कथूयिा के दिशा-निर्देशानुसार इस प्रकार के कार्यक्रम समय-समय पर आयोजित करके आम लोगों को जागरूक करने का काम तेजी से किया जा रहा है।

Print Friendly, PDF & Email