लोकतंत्र व सच्चाई की हत्या कर रही है भाजपा सरकार : कृष्ण अत्री

0
9

कांग्रेस महासचिव  प्रियंका गांधी को गैर कानूनी ढंग से गिरफ्तार करने के विरोध में एनएसयूआई ने फूंका मोदी-योगी का पुतला

Faridabad/Alive News: आज एनएसयूआई फरीदाबाद के कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंक कर अपना रोष व्यक्त किया। दरअसल गत दिवस यूपी पुलिस ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को सोनभद्र जाते हुए गैर कानूनी ढंग से गिरफ्तार कर लिया जिसको लेकर कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं में भारी रोष है।

इस प्रदर्शन का नेतृत्व एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश सचिव कृष्ण अत्री ने किया। हरियाणा एनएसयूआई के प्रदेश सचिव कृष्ण अत्री ने बताया कि उत्तर प्रदेश में संविधान और कानून का नहीं बल्कि अपराध का शासन है। जिस प्रकार 17 जुलाई को सोनभद्र में 3 महिलाओं सहित 10 आदिवासी किसानों की 200 व्यक्तियों द्वारा बंदूक/भालों से हत्या की गई, ये दिखाता है कि संगठित अपराध आदित्यनाथ जी के इशारे से पनप रहा है। उन्होंने आगे कहा कि आज जब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी जी उन आदिवासी परिवारों के आंसू पोंछने गई, तो बजाय अपराधियों को सजा देने के अजय सिंह बिष्ट की सरकार ने अपनी क्रूरता का परिचय देते हुए प्रियंका गांधी को गिरफ्तार कर रखा है।

कृष्ण अत्री ने कहा कि क्या पीड़ितों के आंसू पोछना अब इस देश में अपराध है? क्या प्रियंका गांधी द्वारा धारा 144 का उल्लंघन किए बिना 3 लोगों के साथ उन परिवारों से मिलने जाना अपराध है? क्या उत्तर प्रदेश में गुंडागर्दी/दबंगई का बोलबाला चलेगा या फिर कानून का शासन चलेगा। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी सिर्फ सोनभद्र जाना चाहती थी, वो भी कानून की अनुपालना में। उसके बावजूद पुलिस के अधिकारी ऊपर से आदेश आने की बात कहते हैं। ये आदेश नरेंद्र मोदी जी का है, अमित शाह का है या फिर योगी आदित्यनाथ का है।

अत्री ने कहा कि भाजपा के कुशासन में आए दिन अपराध अपनी जड़ें पकड़ता जा रहा है जो सरकार की असक्षमता दर्शाता है जिससे देश का सविंधान,मौलिक अधिकार तथा लोकतंत्र खतरे में है। अब समय आ गया है कि भाजपा नेताओं के इस घमण्ड को खत्म किया जाए।

इस मौके पर जिला सोशल मीडिया कोऑर्डिनेटर अजित त्यागी, नेहरू कॉलेज अध्यक्ष मोहित त्यागी, विक्रम यादव, अनिल माहौर, अतुल, अमन पंडित, सागर नागर, मनीष, दीपक, अभिषेक, सचिन, रक्षित आदि मौजूद थे।

Print Friendly, PDF & Email

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here