गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में चार विद्यार्थियों के दर्ज हुए नाम

0
23

Faridabad/Alive News : मानवीय निर्माण मंच द्वारा रविवार को सेक्टर-12 स्थित टाउन पार्क में लगे ऊंचे तिरंगे के नीचे योग विश्व कीर्तिमान स्थानीय करने के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान पलवल के चार विद्यार्थियों ने योग के क्षेत्र में नए रिकॉर्ड बना कर देश व विदेश में अपना नाम रोशन किया। आयोजन के दौरान छोटे – छोटे बच्चों ने योग के हैरतअंगेज कारनामे दिखाकर लोगों को दांतों तले उंगली दबाने पर मजबूर किया।

आयोजन के दौरान दोपहर से ही टाउन पार्क में लोगों का इक्कठा होना शुरू हो गया था। बच्चों ने हजारों लोगों के उपस्थिति में योग कर विश्व रिकॉर्ड अपने नाम किए। इस दौरान गोल्ड बुक ऑ वल्र्ड रिकॉर्ड की टीम आई हुई थी, जिन्होंने योगिक क्रियाओं की वीडियोग्राफी दी और चार विश्व रिकॉर्ड स्थापीत होने पर उन्होंने बच्चों को सर्टिफिकेट भी दिए। पहला रिकॉर्ड 7 साल की छात्रा कीर्ति ने बताया। कीर्ति ने 16 मिनट 9 सेकेंड तक ठोडी शलभासन का प्रदर्शन कर रिकॉर्ड कायम किया।

वहीं 9 साल के पीयूष ने 4 मिनट 35 सेकेंड तक पदम तुला आसन कर इतिहास बनाया और गोल्ड बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड में आना नाम दर्ज कराया। तीसरा रिकॉर्ड 14 साल की किरन के नाम रहा। उनकी आयु वर्ग में अभी तक शीर्षासन का रिकॉर्ड 51 मिनट तक का था, उन्होंने 1 घंटा 5 मिनट तक योगासन कर नया विश्व रिकॉर्ड स्थापित किया। अलग रिकॉर्ड 19 साल के अमित के नाम रहा। उन्होंने 20 फुट ऊंचे पिलर से बंधी रस्सी पर लटकते हुए 4 मिनट के अंदर 10 आसन किए। इस दौरान उनके माथे पर जलता हुआ दीपक रखा था।

कार्यक्रम में मनमोहन भड़ाना मुख्यातिथि के रुप में उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि मानवीय निर्माण मंच नव युवकों को बेहतर मंच प्रदान कर रहा है। भारत को योग के क्षेत्र में विश्व गुरू माना जाता है और इस तरह की संस्थाएं निरंतर काम कर हमारे योग को नई पहचान दे रही हैं। उन्होंने लोगों ने नियमित रुप से योग करने का आह्वान किया।

मंच संचालन कर रहे मानवीय निर्माण मंच के संयोजक डॅाक्टर बलराम आर्य ने बताया कि मानवीय निर्माण मंच निशुल्क रूप से बच्चों को योग शिक्षा देता है। साथ ही सर्वांगीण विकास की ओर प्रेरित करता है। उसी से प्रेरित होते हुए यह विश्व कीर्तिमान रचे गए। कार्यक्रम का आरंभ वैदिक मंत्रों से हुआ। कार्यक्रम में मुख्य रूप से मानवीय निर्माण मंच की टीम ने योगा स्तूप, लकड़ी मलखंभ और रस्सा मलखंभ की प्रस्तुती दी।

साथ ही लाठी और आग से कई तरह के खेलों का प्रदर्शन किया। बृज नट मंडली के कलाकारों ने हरियाणवी गीतों पर डांस कर सभी को झूमने पर मजबूर कर दिया। पलवल के मीसा गांव से आए बच्चों ने कई तरह के अद्भुत योग आसनों का प्रदर्शन कर लोगों को अचंभित किया।

कार्यक्रम में विशिष्ठ अतिथि के रुप में डॉ भारती शर्मा ने कहा कि हम सभी वैदिक सिद्धांतों से पीछे हो रहे हैं, उसका मुख्य कारण योग को छोडऩा ही है। योग हमें उच्च जीवन उच्च विचार प्रदान करता हैं। मानवीय निर्माण मंच के संरक्षक महाशय ईश्वर सिंह आर्य ने कहा कि मंच ने 1 साल से कम समय में कामयाबी की दास्तां लिखी है। मंच के 67 बच्चे राज्य स्तरीय प्रतिभागी, 6 नेशनल योग प्रतिभागी, 4 नेशनल मलखंभ प्रतिभागी और 4 भारतीय सेना में शामिल हैं।

उन्होंने बताया कि केवल और वैदिक सिद्धांतों से ही उन्नति का मार्ग प्राप्त किया जा सकता है। गोल्डन बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड के अधिकारी आलोक ने पूरी जांच के बाद चारों बच्चों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया। मौके पर बीजेपी नेता अमन गोयल, भगवती राजपूत, महेश जोशी, विक्रम शर्मा, मनीष शर्मा, जे एस जांगडा आदि अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर उनका आभार व्यक्त किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here