Faridabad/Alive News : मॉ पदमावती फिल्म की रोक को लेकर बल्लभगढ प्रेम नगर मोहना रोड स्थित महाराणा प्रताप राजपूत सेवा समिति हरियाणा प्रदेश कार्यालय पर एक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में मुख्य रूप से रानी पदमावती के इतिहास को लेकर विचार किया गया। बैठक को सम्बोधित करते हुए कुवंर विकास ठाकुर अध्यक्ष युवा हरियाणा प्रदेश राजपूत सेवा समिति ने कहा कि रानी पदमावती चितौड की रानी थी। वह 13वीं 14वीं सदी की महान भारतीय रानी थी।

रानी पदमावती के साहस और बलिदान की गौरव गाथा इतिहास में अमर है। अलाऊउदीन खिलजी रानी पदमावती को हासिल करना चाहता था इसीलिए उसने चितौड पर हमला कर दिया। रानी पदमावती ने आग में कूदकर जान दे दी और पदमावती के साथ 16 हजार रानियो ने भी आग में कूदकर जान दे दी। इसीलिए रानी पदमावती पुरे भारत वर्ष में जानी जाती थी। कुंवर विकास ने कहा कि संजय लीला भंसाली न अपनी फिल्म मे न केवल रानी पदमावती के सम्मान से खिलवाड किया है बल्कि सती प्रथा के विरोध में बने भारतीय कानून का भी उल्लधन किया है। इसीलिए इस फिल्म पर रोक लगा दी जाये।

इस मौके पर कुवंर विकास की दादी मॉ जिनकी उम्र लगभग 103 वर्ष हरदेवी ने कहा कि अभी राजपूतो की तलवार में जंग नहीं लगा है। हरदेवी ने कहा कि अगर मॉ पदमावती फिल्म पर रोक नही लगायी तो मैं खुद ही फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली की गर्दन काट दूगी तलवार से।

इस बैठक में जगवीर ङ्क्षसह सारन, कैप्टन जीवन सिंह, आनंद सिंह तोमर, ठा केशव सिंह सिसौदिया, लेखराम चौहान, मोमराज सिंह सोलंकी, अमर सिंह सिसौदिया, शीला देवी, कान्ता देवी, सोनू गौड, मुगली देवी, पप्पू, अजय सिंह, कुंवर राजेश, कुंवर अतर सिंह, कृष्ण पहलवान, कुंवर संजीव पहलवान, ठा. आजाद सिंह, डॉ. मुरारी, कुंवर आदित्य, कुंवर विजय, ठा.सोहन सिंह, ठा सोमवीर सिंह, कुंवर राजेश सहित अन्य पदाधिकारी व सदसय उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here