“पुलिस मेहरबान तो अवैध शराब माफिया पहलवान”

0
139

Rozi Sinha/Alive News
Faridabad : चिराग तले अंधेरा यह मुहावरा फरीदाबाद पुलिस की वर्तमान कार्यशैली पर चरितार्थ होता है। एक तरफ फरीदाबाद पुलिस लॉकडाउन मे जमाखोरी व कालाबाज़ारी करने वाले लोगों पर लगातार छापेमारी कर रही है, वही दूसरी तरफ पुलिस शराब माफियों से मिलीभगत कर हरियाणा सरकार के राजस्व को मोटा चुना लगा रही है।

पाठकों को बता दें कि लॉकडाउन के चलते सरकारी ठेके बंद हैं और अवैध शराब माफिया पुलिस से मिलीभगत कर हरियाणा सरकार के राजस्व को चुना लगा रहे हैं। लॉकडाउन में शहर भर में अवैध शराब माफिया सक्रिय हो गए है और धड़ल्ले से शराब की होम डिलीवरी कर रहे है।

मिली जानकारी के अनुसार शहर के अलग-अलग हिस्सों में अवैध शराब का कारोबार शुरू हो गया है। जिनमें एनआईटी पांच से होम डिलीवरी की जा रही तो दूसरी ओर राहुल कॉलोनी झुग्गी, इंदिरा कॉलोनी झुग्गी, ए सी नगर, आटोपिन झुग्गी, सोहना रोड से लगी अवैध कालोनी, नगला-खेडी गुजरान, कुरैशीपुर इत्यादि इलाकों में शराब का गोरख धंधा चल रहा है।

मजे कि बात तो यह है कि लॉकडाउन में लोगों का घर से निकलना बंद है और अपने जरूरी काम से जाने के लिए पुलिस की इजाजत लेनी पड़ रही है तो ऐसी स्थिति में शराब तस्कर, शराब लेकर कौन से रास्ता से शहर और कालोनियों में प्रवेश कर रहे हैं। शराब तस्करों का खुलेआम शराब की तस्करी करना और होम डिलिवरी देना पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठा रहा है।

शहर में अवैध शराब बिक्री होना पुलिस की मिलीभगत का होना तय माना जा रहा है। पुलिस आयुक्त को ऐसे थाने प्रभारियों के खिलाफ एक्शन लेना चाहिए, ताकि इस महामारी से जनता को उभारा जा सके।

Print Friendly, PDF & Email