सत्ता पक्ष और विपक्ष, अटल को श्रद्धांजलि देने उमड़ा जनसैलाब

0
18

New Delhi/Alive News : पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन से देश में शोक की लहर है. अटल को श्रद्धांजलि देने के लिए राजनेता उनके घर पहुंचे. उनका पार्थिव शरीर दोपहर एक बजे तक बीजेपी मुख्यालय में अंतिम दर्शन के लिए रखा रहेगा. शाम 4 बजे दिल्ली के स्मृति स्थल पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

अटल बिहारी वाजपेयी को पिता तुल्य बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वाजपेयी ने अपने नेतृत्व और संघर्ष से जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी को मजबूती प्रदान की. प्रधानमंत्री मोदी ने अटल बिहारी वाजपेयी के निधन को अपूरणीय क्षति बताते हुए कहा कि उन्होंने जीवन का प्रत्येक पल राष्ट्र को समर्पित कर दिया था और उनका जाना, एक युग का अंत है.

कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अटल बिहारी वाजपेयी के आवास पर पहुंचकर उनको श्रद्धांजलि दी. सोनिया गांधी ने वाजपेयी के निधन पर दुख प्रकट करते हुए कहा कि वाजपेयी जीवन भर लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए खड़े रहे. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वाजपेयी के निधन पर दुख जताते हुए कहा कि राष्ट्र के प्रति वाजपेयी की सेवाओ को लंबे समय तक याद किया जाएगा.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उन्होंने अपने तप और अथक परिश्रम से पार्टी को सींच कर एक वटवृक्ष बनाया और भारतीय राजनीति में अमिट छाप छोड़ी.

अटल बिहारी वाजपेयी को नमन करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि वाजपेयी एक सच्चे भारतीय राजनेता थे. उनका नेतृत्व, दूरदर्शिता, परिपक्वता और वाकपटुता उन्हें सबसे अलग बनाता है.

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देते हुए उन्हें भारतीय राजनीतिक फलक का चमकता सितारा बताया. महाजन ने कहा कि उनके निधन से हुई क्षति की भरपाई नहीं की जा सकती है. उन्होंने कहा कि मातृभूमि का एक अनमोल रत्न खो गया.

यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी अटल बिहारी को श्रद्धांजलि अर्पित की और प्रिय नेता के दुनिया से चले जाने पर दुख जताया.उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, कृषि मंत्री राधा मोहन सिह, पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन सिंह ने भी अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी.

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने वाजपेयी के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि देश ने एक ऐसे दिग्गज को खो दिया है, जिन्होंने एक ऐसे भारत का सपना देखा जहां सब लोग एकता, शांति और सद्भाव के साथ एकसाथ रहें. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का उदारवादी चेहरा और कई राजनीतिक दलों के सहयोग से 1990 के दशक में केंद्र में पहली बार बीजेपी की सरकार बनाने वाले भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर केंद्र सरकार ने सात दिन के राष्ट्रीय शोक और पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार करने की घोषणा की है. इस दौरान भारत और विदेश में 22 अगस्त तक राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर गहरा शोक प्रकट करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद नेकहा कि उनका विराट व्यक्तित्व हमारी स्मृतियों में सदैव बसा रहेगा. राष्ट्रपति ने अपने शोक संदेश में कहा पूर्व प्रधानमंत्री व भारतीय राजनीति की महान विभूति अटल बिहारी वाजपेयी के देहावसान से मुझे बहुत दुख हुआ है. पूर्व प्रधानमंत्री एवं करिश्माई नेता अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर विभिन्न राज्यों के राज्यपालों, मुख्यमंत्रियों और प्रमुख नेताओं ने श्रद्धांजलि दी और उनके निधन को राष्ट्रीय क्षति बताया. महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडनवीस ने भी दिल्ली आकर देर रात अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी. सभी फोटो क्रेडिट- पीटीआई

वाजपेयी को 2014 में देश के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था. उनके जन्मदिवस 25 दिसंबर को सुशासन दिवस के रूप में मनाया जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here