प्रकृति का सोना…

0
59

नदी से पानी नही रेत चाहिए
पहाड़ से औषधि नही पत्थर चाहिए
पेड़ से छाया नही लकड़ी चाहिए
खेती से अन्न नही, नकद फसल चाहिए
उलीच ली रेत
खोद लिए पत्थर
काट लिए पेड़
तोड़ दिए मेड़
पत्थर रेत से पक्की सडक़ बनाकर,
लकड़ी से नक्काशीदार दरवाजे सजाकर,
अब भटक रहे
मृत कुओं में झाँकते
रीति नदियाँ झिरियाँ ताकते खोजते
लू के थपेड़ों में बिना पेड़ छाया के
हो जाती सुबह से शाम फिर भी सब बर्तन खाली
सोने के अंड़े के लालच में मुर्गी मार ड़ाली

Jagdeesh Chaudhry

श्रीकांत के सहयोग से जगदीश चौधरी फरीदाबाद अध्यक्ष ग्रीन इंडिया फाउंडेशन ट्रस्ट (गिफ्ट) फरीदाबाद सदस्य विश्व जल परिषद फ्रांस

Print Friendly, PDF & Email