New Delhi/Alive News : पूर्व गृह सचिव राजीव महर्षि जम्मू कश्मीर के नए राज्यपाल हो सकते हैं। वे इस महीने के अंत में एनएन वोहरा का कार्यकाल पूरा होने के बाद राज्यपाल का कार्यभार संभालेंगे। राजीव महर्षि फिलहाल सीएजी हैं।उनकी जगह पर मौजूदा राजस्व सचिव हसमुख अडिया को नया सीएजी बनाया जा सकता है। वहीं सीबीआइ में अपने बॉस से पंगा लेने वाले विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को ब्रिटेन में उच्चायुक्त बनाए जाने की भी चर्चा है।

उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, एनएन वोहरा की जगह नए राज्यपाल के लिए लगभग आधा दर्जन नामों पर चर्चा हुई। राजीव महर्षि के नाम पर जाकर चर्चा टिक गई है। गृह सचिव के रूप में राजीव महर्षि जम्मू कश्मीर को देख चुके हैं और वहां के हालात से भलीभांति वाकिफ हैं। संघ और भाजपा नेताओं के साथ अच्छे संबंध भी राजीव महर्षि के पक्ष में जा रहा है।

गौरतलब है कि राजीव महर्षि मोदी सरकार के दौरान दो साल तक वित्त सचिव रह चुके हैं। वहां से सेवानिवृत होने के अंतिम दिन उन्हें गृह सचिव बनाया दिया गया था। दो साल गृह सचिव रहने के बाद पिछले साल सितंबर में उन्हें सीएजी बनाया गया था। अब उन्हें नई जिम्मेदारी पर भेजने की है।राजीव महर्षि के जम्मू कश्मीर का राज्यपाल बनने के साथ ही उनकी जगह पर हसमुख अडिया को नया सीएजी बनाया जा सकता है।

वह अगले महीने सितंबर में राजस्व सचिव के पद से सेवानिवृत होने जा रहे हैं। इसके साथ ही सीबीआइ निदेशक आलोक वर्मा के साथ भिड़ चुके राकेश अस्थाना को ब्रिटेन में उच्चायुक्त बनाकर भेजने की चर्चा है। कई विवादों में घिर चुके राकेश अस्थाना के लिए आलोक वर्मा के बाद सीबीआइ निदेशक बनने की संभावना कम है।

सीबीआइ निदेशक के लिए चयन समिति में सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के साथ ही लोकसभा में विपक्ष के नेता भी होते हैं। आलोक वर्मा के पहले सरकार राकेश अस्थाना को सीबीआइ निदेशक बनाना चाहती थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट में इसके खिलाफ दायर याचिकाओं के कारण संभव नहीं हो पाया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here