समस्याओं का समाधान न होने पर जूझते वार्ड-7 के लोग

0
167

Faridabad/Alive News  : जनप्रतिनिधि का चयन आम जनता करती है, इसके बावजूद आम जनता की सुविधाओं का प्रशासनिक अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को कोई ध्यान नहीं, ऐसे जनप्रतिनिधि चुनने का कोई फायदा नही। यह वोट बैंक की राजनीति के लिए आम लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ है और कुछ नहीं। उक्त बात मूलभूत सुविधाओं से वंचित वार्ड-7 के स्थानीय लोगों ने अपनी पीड़ा ब्यान करते हुए अलाईव न्यूज संवाददाता से कही।

उन्होंने बताया कि कॉलोनियों की सडक़े जर्जर हो चुकी है। नालियों के पानी की निकासी का कोई प्रबंध नही है, जिससे पानी ऑवरफ्लो होकर सडक़ पर भरा रहता है। गलियों में जगह-जगह कूड़े का ढ़ेर लगे हुए है, जिससे उठने वाली दुंर्गध से लोगों का जीना मुहाल हो गया है। सीवर के खुले मैन होल से भी लोगो में हादसे का डर बना रहता है। लोगों ने कई बार पार्षद को अपनी शिकायत दी, लेकिन आलम यह है कि जनप्रतिनिधियों के कानों में जूं तक नहीं रेंगती जिससे महीनों बाद भी समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है।

क्या कहते है स्थानीय निवासी-
वार्ड-7 के अंतर्गत आने वाले जवाहर कॉलोनी की स्थानीय निवासी भगवती ने बताया कि आज भी गली के कोने-कोने में कूड़े का ढेंर लगा हुआ है। जिसे उठाने वाला कोई नही है। महावीर गौड, प्रवेश पांचाल, दिनेश शर्मा ने बताया कि नाली के पानी निकासी के लिए कोई प्रंबध न होने के कारण घरों से निकलने वाला गंदा पानी सडक़ो पर भरा रहता है, जिसमें मच्छर पनपते रहते है और जलजनित बीमारियों के भय से पेरेंट्स बच्चों को बाहर खेलने जाने से रोकते है। पवन शर्मा का कहना था कि वार्ड में सफाई नाम मात्र होती है कई बार बोलने के बाद भी कर्मचारी नालियों से कीचड़ निकालकर घरों के बाहर ही छोड़ जाते है, लेकिन उन्हें इस समस्या से निजात दिलाने के लिए कोई ठोस कार्यवाही नही होती है।

Print Friendly, PDF & Email

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here