देखिये कैसे डिजिटल इंडिया ने बदला शिक्षा का परिवेश

0
37

Gurugram/Alive News : साइबर सिटी के स्कूलों, कॉलेजों व विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों में डिजिटल एजुकेशन का क्रेज बढ़ता जा रहा है। बात केवल यहीं तक सीमित नहीं है। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले भी डिजिटल प्लेटफार्म पर तेजी से सक्रिय हो रहे हैं। बैंकिंग, रेलवे से लेकर सिविल 2009 सर्विसेज परीक्षाओं की तैयारी 2009 करने वाले तेजी से डिजिटल मोड पर आ रहे हैं।

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले प्रतिभागियों का कहना है कि अब हर विषय और हर क्षेत्र की जानकारी डिजिटल प्लेटफार्म पर मौजूद है। ऐसे में किसी कोचिंग या शिक्षक पर निर्भर रहना अब पुरानी बात हो गई है। यू-ट्यूब पर सैकड़ों की संख्या में एजुकेशन चैनल्स हैं जो विभिन्न विषयों की बड़े ही गहराई से अध्ययन कराने में सक्षम हैं।

गुरुग्राम में काफी ऐसे विद्यार्थी हैं जो अपनी पढ़ाई को और अधिक बेहतर करने के लिए एजुकेशन के डिजिटल मोड को सबसे अधिक पसंद कर रहे हैं। वहीं केंद्र सरकार भी अपने डिजिटल इंडिया अभियान के अंतर्गत शिक्षा क्षेत्र में व्यापक करने की ओर अग्रसर है। एक फरवरी को लोकसभा में पेश देश के आम बजट में वित्त मंत्री ने इस बात की घोषणा की थी कि अब स्कूलों में ब्लैक बोर्ड या ग्रीन बोर्ड की जगह पर डिजिटल बोर्ड होगा। शिक्षाविदों का कहना है कि डिजिटल इंडिया के दौर में शिक्षा की धार और पैनी होगी। प्रतियोगिता में एक दूसरे से आगे निकलने के लिए डिजिटल प्लेटफार्म की भूमिका और बड़ी होगी। यह शिक्षा का स्मार्ट माध्यम है।

शहर के कुछ बड़े स्कूलों और कॉलेजों द्वारा अपने विद्यार्थियों को डिजिटल डिवाइस देने का काम पिछले तीन सालों से चल रहा है, जिसके अंतर्गत उन्हें लैपटॉप और टैब जैसी सुविधाएं दी जा रही हैं। होमवर्क व एसाइनमेंट दिए जा रहे हैं। मगर अब अन्य स्कूलों और कॉलेजों द्वारा स्कूलों और कॉलेजों द्वारा ऑनलाइन लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम भी तैयार कराया जा रहा है। मोबाइल बेस्ड लर्निंग और वीडियो बेस्ड लर्निंग का दायरा जिस प्रकार से बढ़ रहा है। इससे शिक्षा के क्षेत्र में नई क्रांति आएगी।डिजिटल तरीके से पढ़ाई करते विद्यार्थी ’ फाइल फोटोशिक्षा का तेजी से डिजिटाइजेशन हो रहा है। इन्फार्मेशन टेक्नोलॉजी के माध्यम से शिक्षा को और प्रभावी और बेहतर बनाने की दिशा में जो काम हो रहा है वह सराहनीय है। आज के विद्यार्थी किसी भी विषय या सवाल की जानकारी के लिए केवल शिक्षक पर ही निर्भर नहीं रहते हैं। वह ऑनलाइन शिक्षा के प्रति काफी जागरूक हो गए हैं-डॉ. अशोक दिवाकर, वाइस चांसलर स्टारेक्स यूनिवर्सिटी

डिजिटल इंडिया के दौर में हर विषय की जानकारी डिजिटल प्लेटफार्म पर मौजूद है। मैं सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहा हूं। आज यू-ट्यूब पर सिविल सर्विसेज की तैयारी कराने वाले एजूकेशन चैनलों की भरमार है। जहां पर इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र से लेकर सामान्य अध्ययन तक तक की तैयारी बहुत अच्छी तरह से कराई जाती है। हर विषय की गहराई से मुफ्त में जानकारी दी जाती है। ऐसे में किसी कोचिंग की जरूरत भी नहीं महसूस होती है-योगेश कुमार, सिविल सर्विसेज की तैयारी करने वाले

Print Friendly, PDF & Email

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here