लॉकडाउन में सरकारी लाभ पाने के लिए गरीबों को करनी होगी भागदौड़

0
23

Faridabad/Alive News : हरियाणा सरकार ने असंगठित श्रमिकों की आर्थिक मदद के लिए वेबपोर्टल http://poorpreg.haryana.gov.in/ लांच किया है। इस पोर्टल पर सबके लिए रजिस्ट्रेशन करने का विकल्प नहीं है, सिर्फ CSC स्कीम के तहत मान्यता प्राप्त लोग ही जरूरतमंदों का रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, पोर्टल पर पब्लिक के लिए सेल्फ पंजीकरण की सुविधा नहीं है.

हरियाणा सरकार द्वारा जारी किये गए फॉर्म में फेरी वालों, औद्योगिक सस्थानों में काम करने वाले श्रमिकों, रिक्शा चालक, घरेलू कामगार, ढाबा रेस्तरां में श्रमिक, सुरक्षा कर्मी, ऑटो रिक्शा चालक, अन्य लोगों को आर्थिक मदद की जाएगी लेकिन यह लाभ लेने के लिए जनता को पापड़ बेलने पड़ेंगे।

मतलब या तो आपको कॉमन सर्विस सेण्टर जाना पड़ेगा जो अधिकतर बंद हैं और अधिक फीस लेकर अपना सेण्टर खोलेंगे और आपका रजिस्ट्रेशन करेंगे, इसके लिए जनता को घरों से निकलना पड़ेगा और हो सकता है पुलिस के डंडे भी खाने पड़ें। पोर्टल पर फॉर्म का लिंक भी दिया गया है जिसे डाउनलोड करके, प्रिंटआउट लेकर खुद भी भरा जा सकता है लेकिन यह नहीं बताया गया है कि यह फॉर्म भरकर किसके पास जमा करना है.

इस फॉर्म को भरने के बाद जनता को सरपंच, पंच, पार्षद, निगम सदस्य, जिलापरिषद सदस्य, ब्लॉक समिति सदस्य, सरकारी अधिकारी ग्रुप A या B में से किसी एक की शिफारिश भी लगानी पड़ेगी और फॉर्म पर इनके हस्ताक्षर और मोबाइल नंबर भी लिखवाना पड़ेगा। अक्सर देखा जाता है कि लोग शिफारिश करने में आनाकानी करते हैं इसलिए यहाँ पर लाभ लेनी वालों को काफी दौड़ भाग करनी पड़ेगी मतलब पापड़ बेलने पड़ेंगे।

वैसे तो ऐसी सुविधा जनता को ऑनलाइन मिलनी चाहिए लेकिन लॉक डाउन में जनता को अपने घरों से निकलकर कॉमन सर्विस सेण्टर वालों के पास जाना पड़ेगा, या हरियाणा सरकार की वेबसाइट http://poorpreg.haryana.gov.in/ खोलकर फॉर्म को डाउन लोड करना पड़ेगा, उसके बाद प्रिंटिंग की दूकान पर जाना पड़ेगा जो अधिकतर बंद हैं, दूकान को खुलवाकर ज्यादा पैसे देकर फॉर्म का प्रिंट आउट लेना पड़ेगा, उसके बाद फॉर्म को भरकर फिर से सरपंच, पंच, पार्षद, निगम सदस्य, जिलापरिषद सदस्य, ब्लॉक समिति सदस्य, सरकारी अधिकारी ग्रुप A या B के पास जाना पड़ेगा और उनकी शिफारिश लगानी पड़ेगी। मतलब हरियाणा सरकार से लाभ लेने के लिए जनता को लॉक डाउन के दौरान काफी पापड़ बेलने पड़ेंगे। खूब दौड़ भाग करनी पड़ेगी।

Print Friendly, PDF & Email