परंपरा के नाम पर लड़कियों से हो रहा ये काम

0
37

International Desk : मलावी में ‘हायना’ का काम करने वाले शख्स एरिक अनीवा को दो साल की जेल हो गई है। उसे एक परंपरा के तहत 100 से ज्यादा महिलाओं और लड़कियों से संबंध बनाने का दोषी पाया गया है। वो भी तब जब वो एचआईवी पॉजीटिव है। मलावी में ये परंपरा ‘सेक्शुअल क्लिन्जिंग’ यानी यौन पवित्रीकरण के नाम से जानी जाती है। एरिक ने बीबीसी की डॉक्युमेंट्री में अपने हायना के काम का खुलासा किया था, जिसके बाद उसे अरेस्ट किया गया।

हायना को इसके लिए मिलते हैं पैसे…

9

– डॉक्युमेंट्री में खुलासे के बाद मलावी के प्रेसिडेंट पीटर मुख्तारिका ने ही एरिक को अरेस्ट करने का ऑर्डर दिया था।
– 45 साल के एरिक ने डॉक्युमेंट्री में बताया था कि उसने 100 से ज्यादा महिलाओं और लड़कियों के साथ संबंध बनाए थे।
– इस परंपरा के लिए बकायदा लड़की और महिलाओं के परिवारों ने ही उसे पैसे देकर बुलाया था।
– मलावी के रिमोट एरिया सान्जे में जज ने उसे 24 महीने जेल की सजा सुनाई है।
– ये अपनी तरह का पहला मामला था। इसमें एक दिन के ट्रायल में एरिक को दो इल्जामों में दोषी पाया गया है। ये चार्ज जेंडर इक्वालिटी एक्ट के तहत है।
– जज ने कहा कि दोषी को न तो विधवा की भावनाओं का ख्याल था और न लड़कियों की गरिमा। ये भी संदेह के घेरे में है कि उसने कॉन्डोम का इस्तेमाल किया या नहीं।
– जज ने कहा कि मलावी में इस तरह के कल्चर के लिए कोई जगह नहीं है।
– दुनियाभर में एचआईवी से प्रभावित देशों में मलावी की स्थिति बहुत खराब है। यहां 27 हजार लोगों की मौत एड्स से संबंधित बीमारियों से हो चुकी है।

Print Friendly, PDF & Email