Vikas dubey Case: कार्तिकेय उर्फ प्रभात को क्राइम ब्रांच की टीम ने कैसे किया काबू, जानिए पूरी स्टोरी

0
79
Sponsored Advertisement

Faridabad/Alive News: फरीदाबाद क्राइम ब्रांच ने कुख्यात बदमाश विकास दुबे के मुख्य साथी सहित दो अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों की पहचान कार्तिकेय उर्फ़ प्रभात, अंकुर और श्रवण के रूप में हुई है। जानकारी के अनुसार आरोपी कार्तिकेय ने पुलिस से घिरा देख पुलिस पर फायरिंग की लेकिन क्राइम ब्रांच ने चारों तरफ से उसे घेर कर दबोच लिया। मुख्य आरोपी कार्तिकेय उर्फ प्रभात से 4 पिस्टल और 44 जिंदा राउंड बरामद किए गए है।

आपको बता दे कि गत 7 जुलाई को क्राइम ब्रांच फरीदाबाद को गुप्त सूचना मिली कि उत्तर प्रदेश के कुख्यात बदमाश विकास दुबे के कुछ सहयोगी आरोपी हथियार सहित न्यू इंदिरा नगर कंपलेक्स हरि नगर नहर पार एरिया में छुपे हुए है। सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को भेजी गई। क्राइम पुलिस कमिश्नर अनिल यादव ने क्राइम ब्रांच 48, क्राइम ब्रांच ऊंचा गांव और क्राइम ब्रांच बीपीटीपी की तीन टीमों के साथ सूचना के आधार पर नहर पार एरिया में रेड की।

रेड के दौरान एक घर मे छुपे हुए बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग कर भागने की कोशिश की लेकिन क्राइम ब्रांच की टीम की घेराबंदी और सतर्कता के चलते आरोपियों को मौके पर ही धर दबोचा। आरोपियों के खिलाफ पुलिस टीम पर फायरिंग करने व अवैध हथियार रखने सहित आईपीसी की संबंधित धाराओं के अंतर्गत थाना खेड़ी पुल में मुकदमा दर्ज किया गया।

पुलिस द्वारा की गई पूछताछ पर बदमाश प्रभात ने बताया कि उसने और कुख्यात बदमाश विकास दुबे ने, विकास की भाभी की मौसी शांति मिश्रा के घर नहरपार, हरी नगर इंदिरा कंपलेक्स मे पनाह ली थी। विकास दुबे पुलिस पार्टी के आने से कुछ घंटे पहले फरार हो गया था। बदमाश प्रभात ने पूछताछ में यह भी बताया कि वह विकास दुबे के साथ बिखरू गांव में हुए हत्याकांड में पुलिस पार्टी पर फायर करने में शामिल था।

आरोपी प्रभात उर्फ कार्तिकेय ने बताया कि विकास दुबे और उसने पुलिस पार्टी पर हमला करके घायल पुलिस वालों की दो पिस्टल और जिंदा राउंड छीनकर मौके से फरार हो गए थे। फरार होने के दो दिन तक दोस्त के घर शिवली यूपी में रहे थे। बदमाश प्रभात ने पूछताछ में बताया कि पुलिस पार्टी पर हमला करने वाले अन्य मुख्य आरोपी अमर दुबे के बारे में भी बताया। आरोपियों को अदालत में पेश कर आरोपी अंकुर अन्य आरोपी श्रवण, जो कि दोनों पिता-पुत्र हैं को बदमाशों को आश्रय देने के आरोप में जेल भेज दिया है।

विकास दुबे के मुख्य सहयोगी आरोपी कार्तिकेय को माननीय अदालत द्वारा यूपी पुलिस की मांग पर ट्रांजिट रिमांड पर यूपी एसटीएफ के हवाले किया गया है। डीसीपी क्राइम ने बताया कि आरोपी के कब्जे से यूपी पुलिसकर्मियों से छिनी हुई 2 देसी पिस्टल सहित 44 जिन्दा रोंद व एक खाली खोल, एक पिठू बैग व 3000/- रुपये बरामद हुए हैं।

Print Friendly, PDF & Email