भाजपा के किस उम्मीदवार पर लगा था 50 लाख की बिजली चोरी का इल्जाम!

0
173

Tilak Raj Sharm/Alive News
Fariadabad: बल्लबगढ़ विधानसभा के एमएलए तथा दोबारा से बल्लबगढ़ विधानसभा से उम्मीदवार मूलचंद शर्मा चारों तरफ से आरोपों से घिरें हुए है। अपने पांच साल के कार्यकाल में उनके ऊपर एक से बढ़कर एक गंभीर आरोप लगे। आरटीआई एक्टिविस्ट तथा अधिवक्ता डॉ ब्रह्मदत्त द्वारा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को 28 सितम्बर को लिखे संज्ञान पत्र में कहा कि उम्मीदवार मूलचंद शर्मा का इस कार्यकाल में सामाजिक कार्यों में ट्रैक रिकॉर्ड कुछ ठीक नहीं रहा है। उन्होंने पत्र में यह भी लिखा कि विधायक मूलचंद शर्मा के ऊपर दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के विजिलेंस टीम के द्वारा दो प्रॉपर्टियों पर 50 लाख रुपए की बिजली चोरी के इल्जाम लगे हुए है। लेकिन इनमे अभी तक विभाग द्वारा कोई मुकदमा दर्ज नहीं कराया गया।

इतना ही नहीं उनके ऊपर अलग- अलग सरकारी विभाग जैसे हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण, नगर निगम के EDC, IDC, CLU के पैसों को टालने का भी आरोप लगा हुआ है। सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार उनके ऊपर लगभग 30 करोड़ रुपए की सरकारी देनदारी है। मूलचंद शर्मा के विरुद्ध स्टेट विजिलेंस टीम के द्वारा दो एफआईआर भी दर्ज कराई गयी, जिसकी काफी लम्बे समय से कार्यवाही चल रही है।

अब प्रश्न यह उठता है कि आखिर भाजपा पार्टी के शीर्ष नेताओं ने मूलचंद शर्मा को राजनीति दवाब के कारण कही टिकट तो नहीं दिया। राजनीति सूत्रों की माने तो हरियाणा में कैबिनेट मंत्री एवं पार्टी के कद्दावर नेता रामविलास शर्मा के समधी होने के नाते शायद मूलचंद शर्मा को दबाव में टिकट दिया गया है क्या? क्योंकि राजनैतिक गलियारों में मूलचंद शर्मा के टिकट कटने की चर्चा ने तूल पकड़ा हुआ था। भाजपा को साफ छवि, भ्रष्टाचार मुक्त और परिवारवाद मुक्त पार्टी माना जाता है।

मान लिया जाये कि मूलचंद शर्मा को पार्टी के कद्दावर नेता रामविलास शर्मा ने टिकट नहीं दिलवाया है तो फिर पार्टी संगठन ने मूलचंद शर्मा पर गम्भीर आरोप होने के बाद भी बल्लबगढ़ विधानसभा से किस आधार पर टिकट दिया गया है। एक तरफ तो भाजपा पार्टी साफ़- सुथरी छवि रखने वाले राजनेता को अपना उम्मीदवार बनाने की बात करती है और दूसरी ओर मूलचंद शर्मा जैसे भ्रष्ट नेताओं को अपना उम्मीदवार बनाती है। यह भाजपा सरकार की नीति पर प्रश्न चिन्ह लगाता है।

Print Friendly, PDF & Email