Faridabad/Alive News : शहर की मार्केट अतिक्रमण और अवैध कब्जे से पटी हुई है। वाहनों के लिए ही नही पैदल चलने वाले लोगों के लिए भी अतिक्रमण करने वाले लोगों ने रास्ता नही छोड़ा है। मोदी जी के ‘सबका साथ सबका विकास’ नारे को लेकर यह कहा जाए तो बिल्कुल गलत नही होगा कि पार्टी के विधायक और पार्षदों ने इस अतिक्रमण को कराने में प्रधानमंत्री के नारे को चरितार्थ किया है।

यहां पर यह बात इसलिए कही जा रही है, कि पार्टी के विधायक और पार्षदों ने अतिक्रमण करने वाले लोगों को अपना विकास करने और सरकारी जमीन पर मकान एवं झुगगी बनाने साथ दिया।

कहां-कहां है अतिक्रमण
न्यू इंडिस्ट्रीयल टाऊन (एनआईटी) में मार्केट न.-1, 2,3 और 5 के दुकानदार, रेहड़ी-पटरी, खौम्चे वाले लोगों ने सडक़ और फुटपाथ पर अतिक्रमण फैलाया हुआ है। इतना ही नही अतिक्रमण के बदले दुकानादारों और प्रोपर्टी मालिकों द्वारा सरकारी जमीन पर किराया वसूला जा रहा है, तो वहीं एनआईटी की ग्रीन वेल्ट पर धार्मिक स्थलों तथा शराब के ठेकेदारों ने कब्जा किया हुआ है। जिससे नगर निगम को हर साल लाखों रूपए के राजस्व का नुकसान हो रहा है।

अवैध निर्माण और अतिक्रमण के लिए कौन है जिम्मेदार?

अवैध निर्माण और अतिक्रमण के लिए प्रशासन के साथ-साथ भाजपा सरकार के लोग भी जिम्मेदार है। इसका खुलासा अतिक्रमण और अवैध निर्माण करने वाले कुछ लोगों ने नाम न छापने की एवज में किया। शहर में यह तक चर्चा है कि विधायक के खासम-खास भाजपा नेताओं ने बिना विधायक को भनक लगे अतिक्रमण और अवैध कब्जे के साथ-साथ अवैध निर्माण तक का गौरखधंधा शुरू किया हुआ है। जिनकी प्रशासन में अच्छी पकड़ बन चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here