जवान और आदिवासी मिलकर बुन रहें है सुनहरे भविष्य की तस्वीर

0
16

Raipur/Alive News : छत्तीसगढ़ के घोर नक्सल प्रभावित बस्तर में जवान और आदिवासी मिलकर सुनहरे भविष्य की तस्वीर बुन रहे हैं। आदिवासियों के बीच अपनी उपस्थिति दर्ज कराने और उनके दिलों में जगह बनाने के लिए जवान अनोखे काम कर रही है। इस बार स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर फोर्स उन गांवों में पहुंची, जो कभी नक्सलियों के गढ़ माने जाते थे। जहां कभी नक्सली काले झंडे फहराते थे, वहां इस बार शान से तिरंगा लहराया।

अबूझमाड़ में सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन ने ऐसे कई स्कूलों को इसी वर्ष खुलवाया है, जहां जवान बच्चों को खुद भी पढ़ाते हैं। इस बार इन स्कूलों के बच्चों को लजीज खाना भी परोसा और जवानों ने उनके साथ फुटबाल भी खेला। वहीं, दंतेवाड़ा के पुसपाल में जवानों ने सड़क निर्माण को सुरक्षा देकर स्वतंत्रता दिवस मनाया।सीआरपीएफ आइजी संजय अरोरा कहते हैं कि आदिवासियों में जवानों के प्रति भरोसा जगाने के लिए सिविक एक्शन प्लान चलाया जाता है। इसी के तहत स्कूल और गांवों में जवानों ने स्वतंत्रता दिवस मनाया है।

सीआरपीएफ ने स्वतंत्रता दिवस पर जवानों के अनोखे काम को अपने ट्विटर अकांउट पर भी पोस्ट किया है। इसमें बच्चों को खाना परोसती जवानों की तस्वीर भी शामिल है। 204 कोबरा बटालियन के जवान अपने कैंप के नजदीक के स्कूल पहुंचे। जवानों ने बताया कि यहां के बच्चे नक्सली आतंक से भयभीत हैं। सरकार और फोर्स को करीब से देखने के बाद इनमें नक्सलियों का भय कम हो जाएगा।अबूझमाड़ में सड़क निर्माण को दी सुरक्षा

सीआरपीएफ के 195वीं बटालियन ने स्वतंत्रता दिवस पर पहले कैंप में झंडा फहराया। उसके बाद जवान सड़कों की सुरक्षा के लिए रवाना हो गये। ये जवान नक्सल प्रभावित अबूझमाड़ में विकास की सड़क पहुंचाने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं। सीआरपीएफ के आला अधिकारियों ने बताया कि इस इलाके में सड़क बनाने में नक्सली रोड़ा हैं। यहां गांवों को मुख्य मार्ग से जोड़ने नहीं दिया जा रहा है। अब प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत सीआरपीएफ की सुरक्षा में ये सड़कें बनाई जा रही हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here