DAV कॉलेज में यूथ रैडक्रॉस ने चलाया ‘कैश लैस भुगतान’ अभियान

0
33

Faridabad/Alive News : डी.ए.वी. महाविद्यालय की यूथ रैडक्रॉस एवं रैड रिब्बन क्लब के तत्वावधान में कॉलेज के असंख्य छात्र-छात्राओं को कैश लैश भुगतान की प्रक्रिया से अवगत कराया गया। इस कार्यक्रम में ‘आन लाइन भुगतान’ प्रणाली के बारे में छात्र-छात्राओं को वर्तमान सरकार द्वारा चलाई गयी ‘नकदी रहित भुगतान’ नीति को प्रोत्साहित करने हेतु विभिन्न ‘भुगतान ऐप्स’ की जानकारी एवं उनके क्रियान्वयन की प्रक्रिया पर विस्तृत प्रकाश डाला गया। कालेज के संगणक विभाग के सहायक प्रोफेसर एहतेशाम अंसारी, प्रो. सरोज कुमार, प्रो. प्रमोद कुमार ने असंख्य छात्र-छात्राओं के न केवल ‘कैसलैस भुगतान’ प्रक्रिया के प्रशिक्षण में अहम योगदान दिया बल्कि प्राध्यापकों की शंकाओं एवं प्रश्नों को भी हल किया। इसमें कॉलेज के यूथ रैडक्रॉस एवं रैड रिब्बन क्लब के सैकड़ों छात्रों के अतिरिक्त कालेज के अन्य विद्याथियों ने भी लाभ उठाया।

22 Jan Photo-4A

कार्यक्रम की अध्यक्षता प्राचार्य डा.सतीश आहूजा की। कॉलेज के खुले प्रांगण में कॉलेज के रैड क्रॉस सलाहकार प्रो.दिनेश चन्द्र कुमेड़ी ने इस कार्यक्रम के आयोजन किया। ज्ञातव्य है कि हरियाणा उच्चतर शिक्षा विभाग द्वारा राज्य भर के कालेजों को निर्देश दिया गया है कि वे सभी छात्र-छात्राओं के ‘कैशलैस भुगतान’ प्रक्रिया में प्रशिक्षित कर समाज के पिछड़ें एवं ग्रामीण अंचल के समाज को इस प्रक्रिया में दक्ष बनायें। इस मौके पर डॉ.आहूजा ने युवा छात्र-छात्राओं का आहवान किया कि जब विकसित देशों में 90 प्रतिशत से अधिक लेन-देन एवं व्यापार ‘आन लाइन’ होता है तो विश्व गुरु कहलाने वाला भारत पीछे क्यों। उन्होंने छात्र-छात्राओं से अपने मीठे अनुभव बाटते हुए बताया कि इन तीन महीनों में स्वयं उन्होंने नारियल पानी, चाय-पकोड़ा, फल एवं सब्जी का भुगतान ‘आन लाइन’ किया, उनको यह अनुभव अद्भुत एवं आनन्द देने वाला रहा।

आज के इस कार्यक्रम में डा. नरेन्द्र कुमार, प्रो. वीरेन्द्र भसीन, डा. जितेन्द्र ढुल, डा. सुनीति आहूजा, प्रो. मुकेश बंसल ने भी छात्र-छात्राओं को सम्बोधित किया। श्री आनन्द सिंह जमनाल, अशोंक मंगला ने भी योगदान दिया। कार्यक्रम के संचालन में कालेज यूथ रैडक्रॉस के छात्रों-लक्ष्य मेहरा, कृष्ण कटारिया, मुकुल, यशपाल शर्मा, आकाश मिश्रा, योगेश, लक्ष्मण, कृष्ण, प्रमोद, हर्ष, शिवम एवं विकास ने योगदान दिया।

Print Friendly, PDF & Email